Monday, 8 February 2021

जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय और उनकी की रचनाएँ

 







जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय और उनकी की रचनाएँ





Hindi Kavita

हिंदी कविता

Jaishankar Prasad

जयशंकर प्रसाद




जयशंकर प्रसाद (३० जनवरी १८८९ - १४ जनवरी १९३७) कवि, नाटकार, कथाकार, उपन्यासकार तथा निबन्धकार थे। वे हिन्दी के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं । उन्होंने हिंदी काव्य में छायावाद की स्थापना की जिसके द्वारा खड़ी बोली के काव्य में कमनीय माधुर्य की रससिद्ध धारा प्रवाहित हुई और वह काव्य की सिद्ध भाषा बन गई। उन्होंने कविता, कहानी, नाटक, उपन्यास और आलोचनात्मक निबंध आदि विभिन्न विधाओं में रचनाएं की। उनकी काव्य रचनाएँ हैं: कानन-कुसुम, महाराणा का महत्व, झरना, आंसू, लहर, कामायनी और प्रेम पथिक । इसके इलावा उनके नाटकों में बहुत से मीठे गीत मिलते हैं ।




जयशंकर प्रसाद की रचनाएँ


जीवन परिचयचित्राधारकामायनीआंसूझरनालहरकानन-कुसुममहाराणा का महत्त्वविविध रचनाएँनाटकों में से काव्य रचनाएँकहानियाँ

जयशंकर प्रसाद प्रसिद्ध रचनाएँ/कविताएँ

कामायनी-चिंता सर्गकामायनी-आशा सर्गकामायनी-श्रद्धा सर्गकामायनी-काम सर्गकामायनी-वासना सर्गकामायनी-लज्जा सर्गकामायनी-कर्म सर्गकामायनी-ईर्ष्या सर्गकामायनी-इड़ा सर्गकामायनी-स्वप्न सर्गकामायनी-संघर्ष सर्गकामायनी-निर्वेद सर्गकामायनी-दर्शन सर्गकामायनी-रहस्य सर्गकामायनी-आनंद सर्गआंसूपरिचयझरनाअव्यवस्थितपावस-प्रभातकिरणविषादबालू की बेलाचिह्नदीपकब ?स्वभावअसंतोषप्रत्याशादर्शनहृदय का सौंदर्यहोली की रातरत्नकुछ नहींकसौटीअतिथिलहर-वे कुछ दिन कितने सुंदर थेलहर-उठ उठ री लघु लोल लहरअशोक की चिन्ताप्रलय की छायाले चल वहाँ भुलावा देकरनिज अलकों के अंधकार मेंमधुप गुनगुनाकर कह जाताअरी वरुणा की शांत कछारहे सागर संगम अरुण नीलउस दिन जब जीवन के पथ मेंआँखों से अलख जगाने कोआह रे, वह अधीर यौवनतुम्हारी आँखों का बचपनअब जागो जीवन के प्रभातकोमल कुसुमों की मधुर रातकितने दिन जीवन जल-निधि मेंमेरी आँखों की पुतली मेंजग की सजल कालिमा रजनीवसुधा के अंचल परअपलक जगती हो एक रातजगती की मंगलमयी उषा बनचिर तृषित कंठ से तृप्त-विधुरकाली आँखों का अंधकारअरे कहीं देखा है तुमनेशशि-सी वह सुन्दर रूप विभाअरे ! आ गई है भूली-सीनिधरक तूने ठुकराया तबओ री मानस की गहराईमधुर माधवी संध्या मेंअंतरिक्ष में अभी सो रही हैशेरसिंह का शस्त्र समर्पणपेशोला की प्रतिध्वनिबीती विभावरी जाग रीप्रभोवन्दनानमस्कारमन्दिरकरुण क्रन्दनमहाक्रीड़ाकरुणा-कुंजप्रथम प्रभातनव वसंतमर्म-कथाहृदय-वेदनाग्रीष्म का मध्यान्हजलद-आहृवानभक्तियोगरजनीगंधासरोजमलिनाजल-विहारिणीठहरोबाल-क्रीड़ाकोकिलसौन्दर्यएकान्त मेंदलित कुमुदिनीनिशीथ-नदीविनयतुम्हारा स्मरणयाचनापतित पावनखंजनविरहरमणी-हृदयहाँ, सारथे ! रथ रोक दोगंगा सागरप्रियतममोहनभाव-सागरमिल जाओ गलेनहीं डरतेमहाकवि तुलसीदासधर्मनीतिगानमकरन्द-विन्दुचित्रकूटभरतशिल्प सौन्दर्यकुरूक्षेत्रवीर बालकश्रीकृष्ण-जयन्तीहिमाद्रि तुंग श्रृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारतीअरुण यह मधुमय देश हमाराआत्‍मकथ्‍यसब जीवन बीता जाता हैआह ! वेदना मिली विदाईदो बूँदेंतुम कनक किरनभारत महिमाआदि छन्दपहली प्रकाशित रचनाआशा तटिनी का कूल नहीं मिलता है



()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()


()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()





 

Hindi Kahani

हिंदी कहानी

Jaishankar Prasad

जयशंकर प्रसाद



छाया (कहानी संग्रह)

आकाशदीप (कहानी संग्रह)

आँधी (कहानी संग्रह)

इंद्रजाल (कहानी संग्रह)

प्रतिध्वनि (कहानी संग्रह)

नाटक और उपन्यास

अजातशत्रु (नाटक)

ध्रुवस्वामिनी (नाटक)

कंकाल (उपन्यास)

तितली (उपन्यास)

इरावती (उपन्यास)

जीवन परिचय

हिंदी कविता

जयशंकर प्रसाद हिन्दी कहानियाँ

अघोरी का मोह

अनबोला

अपराधी

अमिट स्मृति

अशोक

आकाशदीप

आँधी

इंद्रजाल

उर्वशी

उस पार का योगी

करुणा की विजय

कला

कलावती की शिक्षा

खंडहर की लिपि

ग्राम

ग्राम-गीत

गुदड़ी में लाल

गुंडा

गुलाम

गूदड़ साईं

घीसू

चक्रवर्ती का स्तम्भ

चंदा

चित्र-मंदिर

चित्रवाले पत्थर

चित्तौर-उद्धार

चूड़ीवाली

छोटा जादूगर

जहाँआरा

ज्योतिष्मती

तानसेन

दासी

दुखिया

देवदासी

देवरथ

नीरा

नूरी

पत्थर की पुकार

पंचायत

प्रणय-चिह्न

प्रतिध्वनि

प्रतिमा

प्रलय

प्रसाद

परिवर्तन

पाप की पराजय

पुरस्कार

बनजारा

बभ्रुवाहन

ब्रह्मर्षि

बिसाती

बेड़ी

भिखारिन

भीख में

मदन-मृणालिनी

मधुआ

ममता

रमला

रसिया बालम

रूप की छाया

व्रत-भंग

विजया

विराम-चिह्न

वैरागी

शरणागत

संदेह

समुद्र-संतरण

सलीम

सहयोग

स्वर्ग के खंडहर में

सालवती

सिकंदर की शपथ

सुनहला साँप

हिमालय का पथिक



Complete Hindi Stories Jaishankar Prasad

Aakashdeep

Aandhi

Aghori Ka Moh

Amit Smriti

Anbola

Apradhi

Ashok

Beri

Bisati

Babhruvahan

Brahmrishi

Bheekh Mein

Bhikharin

Banjara

Chhota Jadugar

Chittaur Uddhaar

Chanda

Churiwali

Chitrawale Patthar

Chitra-Mandir

Chakravarti Ka Stambh

Devdasi

Dasi

Dukhiya

Devrath

Gheesu

Gudar Sain

Gunda

Gram

Gram Geet

Gulam

Gudari Mein Lal

Himalaya Ka Pathik

Indrajaal

Jahanara

Jyotishmati

Kala

Kalawati Ki Shisha

Karuna Ki Vijay

Khandahar Ki Lipi

Madan Mrinalini

Madhua

Mamta

Noori

Neera

Pranaya Chihn

Puraskar

Parivartan

Panchayat

Prasad

Patthar Ki Pukar

Paap Ki Prajay

Pratima

Pralaya

Pratidhwani

Rasiya Balam

Ramla

Roop Ki Chhaya

Swarg Ke Khandahar Mein

Sandeh

Salwati

Sahyog

Sunahla Saamp

Saleem

Samudar Santran

Sharanagat

Sikandar Ki Shapath

Tansen

Urvashi

Us Paar Ka Yogi

Vrat-Bhang

Vijaya

Viram Chihn

Vairagi





()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()


Hindi Kavita

हिंदी कविता

Lehar Jaishankar Prasad

लहर जयशंकर प्रसाद





1. लहर

वे कुछ दिन कितने सुंदर थे ?

जब सावन घन सघन बरसते

इन आँखों की छाया भर थे


सुरधनु रंजित नवजलधर से-

भरे क्षितिज व्यापी अंबर से

मिले चूमते जब सरिता के

हरित कूल युग मधुर अधर थे


प्राण पपीहे के स्वर वाली

बरस रही थी जब हरियाली

रस जलकन मालती मुकुल से

जो मदमाते गंध विधुर थे


चित्र खींचती थी जब चपला

नील मेघ पट पर वह विरला

मेरी जीवन स्मृति के जिसमें

खिल उठते वे रूप मधुर थे

2. लहर

उठ उठ री लघु लोल लहर!

करुणा की नव अंगड़ाई-सी,

मलयानिल की परछाई-सी

इस सूखे तट पर छिटक छहर!


शीतल कोमल चिर कम्पन-सी,

दुर्ललित हठीले बचपन-सी,

तू लौट कहाँ जाती है री

यह खेल खेल ले ठहर-ठहर!


उठ-उठ गिर-गिर फिर-फिर आती,

नर्तित पद-चिह्न बना जाती,

सिकता की रेखायें उभार

भर जाती अपनी तरल-सिहर!


तू भूल न री, पंकज वन में,

जीवन के इस सूनेपन में,

ओ प्यार-पुलक से भरी ढुलक!

आ चूम पुलिन के बिरस अधर!

3. अशोक की चिन्ता

जलता है यह जीवन पतंग


जीवन कितना? अति लघु क्षण,

ये शलभ पुंज-से कण-कण,

तृष्णा वह अनलशिखा बन

दिखलाती रक्तिम यौवन।

जलने की क्यों न उठे उमंग?


हैं ऊँचा आज मगध शिर

पदतल में विजित पड़ा,

दूरागत क्रन्दन ध्वनि फिर,

क्यों गूँज रही हैं अस्थिर


कर विजयी का अभिमान भंग?


इन प्यासी तलवारों से,

इन पैनी धारों से,

निर्दयता की मारो से,

उन हिंसक हुंकारों से,


नत मस्तक आज हुआ कलिंग।


यह सुख कैसा शासन का?

शासन रे मानव मन का!

गिरि भार बना-सा तिनका,

यह घटाटोप दो दिन का


फिर रवि शशि किरणों का प्रसंग!


यह महादम्भ का दानव

पीकर अनंग का आसव

कर चुका महा भीषण रव,

सुख दे प्राणी को मानव

तज विजय पराजय का कुढंग।


संकेत कौन दिखलाती,

मुकुटों को सहज गिराती,

जयमाला सूखी जाती,

नश्वरता गीत सुनाती,


तब नही थिरकते हैं तुरंग।


बैभव की यह मधुशाला,

जग पागल होनेवाला,

अब गिरा-उठा मतवाला

प्याले में फिर भी हाला,


यह क्षणिक चल रहा राग-रंग।


काली-काली अलकों में,

आलस, मद नत पलकों में,

मणि मुक्ता की झलकों में,

सुख की प्यासी ललकों में,


देखा क्षण भंगुर हैं तरंग।


फिर निर्जन उत्सव शाला,

नीरव नूपुर श्लथ माला,

सो जाती हैं मधु बाला,

सूखा लुढ़का हैं प्याला,


बजती वीणा न यहाँ मृदंग।


इस नील विषाद गगन में

सुख चपला-सा दुख घन मे,

चिर विरह नवीन मिलन में,

इस मरु-मरीचिका-वन में


उलझा हैं चंचल मन कुरंग।


आँसु कन-कन ले छल-छल

सरिता भर रही दृगंचल;

सब अपने में हैं चंचल;

छूटे जाते सूने पल,


खाली न काल का हैं निषंग।


वेदना विकल यह चेतन,

जड़ का पीड़ा से नर्तन,

लय सीमा में यह कम्पन,

अभिनयमय हैं परिवर्तन,


चल रही यही कब से कुढंग।


करुणा गाथा गाती हैं,

यह वायु बही जाती है,

ऊषा उदास आती हैं,

मुख पीला ले जाती है,


वन मधु पिंगल सन्ध्या सुरंग।


आलोक किरन हैं आती,

रेश्मी डोर खिंच जाती,

दृग पुतली कुछ नच पाती,

फिर तम पट में छिप जाती,


कलरव कर सो जाते विहंग।


जब पल भर का हैं मिलना,

फिर चिर वियोग में झिलना,

एक ही प्राप्त हैं खिलना,

फिर सूख धूल में मिलना,


तब क्यों चटकीला सुमन रंग?


संसृति के विक्षत पर रे!

यह चलती हैं डगमग रे!

अनुलेप सदृश तू लग रे!

मृदु दल बिखेर इस मग रे!


कर चुके मधुर मधुपान भृंग।


भुनती वसुधा, तपते नग,

दुखिया है सारा अग जग,

कंटक मिलते हैं प्रति पग,

जलती सिकता का यह मग,


बह जा बन करुणा की तरंग,

जलता हैं यह जीवन पतंग।

4. प्रलय की छाया

थके हुए दिन के निराशा भरे जीवन की

सन्ध्या हैं आज भी तो धूसर क्षितिज में!

और उस दिन तो;

निर्जन जलधि-वेला रागमयी सन्ध्या से

सीखती थी सौरभ से भरी रंग-रलियाँ।

दूरागत वंशी रव

गूँजता था धीवरों की छोटी-छोटी नावों से।

मेरे उस यौवन के मालती-मुकुल में

रंध्र खोजती थी, रजनी की नीली किरणें

उसे उकसाने को-हँसाने को।

पागल हुई मैं अपनी ही मृदुगन्ध से

कस्तरी मृग जैसी।


पश्चिम जलधि में,

मेरी लहरीली नीली अलकावली समान

लहरें उठती थी मानों चूमने को मुझको,

और साँस लेता था संसार मुझे छुकर।

नृत्यशीला शैशव की स्फूर्तियाँ

दौड़कर दूर जा खड़ी हो हँसने लगी।

मेरे तो,

चरण हुए थे विजड़ित मधु भार से।

हँसती अनंग-बालिकाएँ अन्तरिक्ष में

मेरी उस क्रीड़ा के मधु अभिषेक में

नत शिर देख मुझे।


कमनीयता थी जो समस्त गुजरात की

हुई एकत्र इस मेरी अंगलतिका में,

पलकें मदिर भार से थीं झुकी पड़ती।

नन्दन की शत-शत दिव्य कुसुम-कुन्तला

अप्सराएँ मानो वे सुगन्ध की पुतलियाँ

आ आकर चूम रहीं अरुण अधर मेरा

जिसमें स्वयं ही मुस्कान खिल पड़ती।

नूपुरों की झनकार घुली-मिली जाती थी

चरण अलक्तक की लाली से

जैसे अन्तरिक्ष की अरुणिमा

पी रही दिगन्त व्यापी सन्ध्या संगीत को।


कितनी मादकता थी?

लेने लगी झपकी मैं

सुख रजनी की विश्रम्भ-कथा सुनती;

जिसमें थी आशा

अभिलाषा से भरी थी जो

कामना के कमनीय मृदुल प्रमोद में

जीवन सुरा की वह पहली ही प्याली थी।

"आँखे खुली;

देखा मैने चरणों में लोटती थी

विश्व की विभव-राशि,

और थे प्रणत वहीं गुर्ज्जर-महीप भी।

वह एक सन्ध्या था।"


"श्यामा सृष्टि युवती थी

तारक-खचिक नीलपट परिधान था

अखिल अनन्त में

चमक रही थी लालसा की दीप्त मणियाँ

ज्योतिमयी, हासमयी, विकल विलासमयी

बहती थी धीरे-धीरे सरिता

उस मधु यामिनी में

मदकल मलय पवन ले ले फूलों से

मधुर मरन्द-बिन्दु उसमें मिलाता था।

चाँदनी के अंचल में।

हरा भरा पुलिन अलस नींद ले रहा।


सृष्टि के रहस्य भी परखने को मुझको

तारिकाएँ झाँकती थी।

शत शतदलों की

मुद्रित मधुर गन्ध भीनी-भीनी रोम में

बहाती लावण्य धारा।

स्मर शशि किरणें

स्पर्श करती थी इस चन्द्रकान्त मणि को

स्निग्धता बिछलाती थी जिस मेरे अंग पर।


अनुराग पूर्ण था हृदय उपहार में

गुर्ज्जरेश पाँवड़े बिछाते रहे पलकों के,

तिरते थे

मेरी अँगड़ाइयों की लहरों में।

पीते मकरन्द थे

मेरे इस अधखिले आनन सरोज का

कितना सोहाग था, कैसा अनुराग था?

खिली स्वर्ण मल्लिका की सुरभित वल्लरी-सी

गुर्ज्जर के थाले में मरन्द वर्षा करती मैं।"


"और परिवर्तन वह!

क्षितिज पटी को आन्दोलित करती हुई

नीले मेघ माला-सी

नियति-नटी थी आई सहसा गगन में

तड़ित विलास-सी नचाती भौहें अपनी।"

"पावक-सरोवर में अवभृथ स्नान था

आत्म-सम्मान-यज्ञ की वह पूर्णाहुति

सुना-जिस दिन पद्मिनी का जल मरना

सती के पवित्र आत्म गौरव की पुण्य-गाथा

गूँज उठी भारत के कोने-कोने जिस दिन;

उन्नत हुआ था भाल

महिला-महत्त्व का।


दृप्त मेवाड़ के पवित्र बलिदान का

ऊर्जित आलोक

आँख खोलता था सबकी।

सोचने लगी थी कुल-वधुएं, कुमारिकाएँ

जीवन का अपने भविष्य नये सिर से;

उसी दिन

बींधने लगी थी विषमय परतंत्रता।

देव-मन्दिरों की मूक घंटा-ध्वनि

व्यंग्य करती थी जब दीन संकेत से

जाग उठी जीवन की लाज भरी निद्रा से।


मै भी थी कमला,

रूप-रानी गुजरात की।

सोचती थी

पद्मिनी जली थी स्वयं किन्तु मैं जलाऊँगी

वह दवानल ज्वाला

जिसमें सुलतान जले।

देखे तो प्रचंड रूप-ज्वाला की धधकती

मुझको सजीव वह अपने विरुद्ध।

आह! कैसी वह स्पर्द्धा थी?

स्पर्द्धा थी रूप की

पद्मिनी की वाह्य रूप-रेखा चाहे तुच्छ थी,

मेरे इस साँचे मे ढले हुए शरीर के

सन्मुख नगण्य थी।


देखकर मुकुर, पवित्र चित्र पद्मिनी का

तुलना कर उससे,

मैने समझा था यही।

वह अतिरंजित-सी तूलिका चितेरी की

फिर भी कुछ कम थी।

किन्तु था हृदय कहाँ?

वैसा दिव्य

अपनी कमी थी इतरा चली हृदय की

लधुता चली थी माप करने महत्त्व की।


"अभिनय आरम्भ हुआ

अन-हलवाड़ा में अनल चक्र घूमा फिर

चिर अनुगत सौन्दर्य के समादर में

गुर्ज्जरेश मेरी उन इंगितों में नाच उठे।

नारी के चयन! त्रिगुणात्मक ये सन्निपात

किसको प्रमत्त नहीं करते

धैर्य किसका नहीं हरते ये?

वही अस्त्र मेरा था।

एक झटके में आज

गुर्जर स्वतंत्र साँस लेता था सजीव हो।


क्रोध सुलतान का दग्ध करने लगा

दावानल बनकर

हरा भरा कानन प्रफुल्ल गुजरात का।

बालको की करुण पुकारें, और वृद्धों की

आर्तवाणी,

क्रन्दन रमणियों का,

भैरव संगीत बना, तांडव-नृत्य-सा

होने लगा गुर्जर में।

अट्टहास करती सजीव उल्लास से

फाँद पड़ी मैं भी उस देश की विपत्ति में।


वही कमला हूँ मैं!

देख चिरसंगिनी रणांगण में, रंग में,

मेरे वीर पति आह कितने प्रसन्न थे

बाधा, विध्न, आपदाएँ,

अपनी ही क्षुद्रता में टलती-बिचलती

हँसते वे देख मुझे

मै भी स्मित करती।

किन्तु शक्ति कितनी थी उस कृत्रिमता में?

संबल बचा न जब कुछ भी स्वदेश में

छोड़ना पड़ा ही उसे।

निर्वासित हम दोनों खोजते शरण थे,

किन्तु दुर्भाग्य पीछा करने में आगे था।


"वह दुपहरी थी,

लू से झुलसानेवाली; प्यास से जलानेवाली।

थके सो रहे थे तरुछाया में हम दोनों

तुर्कों का एक दल आया झंझावात-सा।

मेरे गुर्ज्जरेश !

आज किस मुख से कहूँ?

सच्चे राजपूत थे,

वह खंग लीला खड़ी देखती रही मैं वही

गत-प्रत्यागत में और प्रत्यावर्तन में

दूर वे चले गये,

और हुई बन्दी मै।


वाह री नियति!

उस उज्जवल आकाश में

पद्मिनी की प्रतिकृति-सी किरणों में बनकर

व्यंग्य-हास करती थी।

एक क्षण भ्रम के भुलावे में डालकर

आज भी नचाता वही,

आज सोचती हूँ जैसे पद्मिनी थी कहती-

"अनुकरण कर मेरा"

समझ सकी न मैं।

पद्मिनी की भूल जो थी समझने को

सिंहिनी की दृप्त मूर्ति धारण कर

सन्मुख सुलतान के

मारने की, मरने की अटल प्रतिज्ञा हुई।


उस अभिमान में

मैने ही कहा था - छाती ऊँची कर उनसे -

"ले चलो मैं गुर्जर की रानी हूँ, कमला हूँ"

वाह री! विचित्र मनोवृत्ति मेरी!

कैसा वह तेरा व्यंग्य परिहास-शील था?

उस आपदा में आया ध्यान निज रूप का।

रूप यह!

देखे तो तुरुष्कपति मेरा भी

कितनी महीन और कितनी अभूतपूर्व ?


बन्दिनी मैं बैठी रही

देखती थी दिल्ली कैसी विभव विलासिनी।

यह ऐश्वर्य की दुलारी, प्यारी क्रूरता की

एक छलना-सी, सजने लगी थी सन्ध्या में।

कृष्णा वह आई फिर रजनी भी।

खोलकर ताराओं की विरल दशन पंक्ति

अट्टहास करती थी दूर मानो व्योम में ।

जो न सुन पड़ा अपने ही कोलाहल में!


कभी सोचती थी प्रतिशोध लेना पति का

कभी निज रूप सुन्दरता की अनुभूति

क्षणभर चाहती जगाना मैं

सुलतान ही के उस निर्मम हृदय में,

नारी मैं!

कितनी अबला थी और प्रमदा थी रूप की!


साहस उमड़ता था वेग-पूर्-ओघ-सा

किन्तु हलकी थी मैं,

तृण बह जाता जैसे

वैसे मैं विचारों में ही तिरती-सी फिरती।

कैसी अवहेलना थी यह मेरी शत्रुता की

इस मेरे रूप की।


आज साक्षात होगा कितने महीनों पर

लहरी-सदृश उठती-सी गिरती-सी मैं

अदूभूत! चमत्कार!! दृप्त निज गरिमा में

एक सौंदर्यमयी वासना की आँधी-सी

पहुँची समीप सुलतान के।

तातारी दासियों मे मुझको झुकाना चाहा

मेरे ही घुटनों पर,

किन्तु अविचल रही।

मणि-मेखला में रही कठिन कृपानी जो

चमकी वह सहसा

मेरे ही वक्ष का रुधिर पान करने को।

किन्तु छिन गई वह

और निरुपाय मैं तो ऐंठ उठी डोरी-सी,

अपमान-ज्वाला में अधीर होके जलती।


अन्त करने का और वहीं मर जाने का

मेरा उत्साह मन्द हो चला।

उसी क्षण बचकर मृत्यु महागर्त से सोचने लगी थी मैं-


"जीवन सौभाग्य हैं; जीवन अलभ्य हैं।"

चारों और लालसा भिखरिणी-सी माँगती थी

प्राणों के कण-कण दयनीय स्पृहणीय

अपने विश्लेषण रो उठे अकिंचन जो

"जीवन अनन्त हैं,

इसे छिन्न करने का किसे अधिकार हैं?"

जीवन की सीमामयी प्रतिमा

कितनी मधुर हैं?

विश्व-भर से मैं जिसे छाती मे छिपाये रही।


कितनी मधुर भीख माँगते हैं सब ही:-

अपना दल-अंचल पसारकर बन-राजी,

माँगती हैं जीवन का बिन्दु-बिन्दु ओस-सा

क्रन्दन करता-सा जलनिधि भी

माँगता हैं नित्य मानो जरठ भिखारी-सा

जीवन की धारा मीठी-मीठी सरिताओं से।

व्याकुल हो विश्व, अन्ध तम से

भोर में ही माँगता हैं

"जीवन की स्वर्णमयी किरणें प्रभा भरी।

जीवन ही प्यारा हैं जीवन सौभाग्य है।"


रो उठी मैं रोष भरी बात कहती हुई

"मारकर भी क्या मुझे मरने न दोगे तुम?

मानती हूँ शक्तिशाली तुम सुलतान हो

और मैं हूँ बन्दिनी।

राज्य हैं बचा नहीं,

किन्तु क्या मनुष्यता भी मुझमें रही नहीं

इतनी मैं रिक्त हूँ ?"

क्षोभ से भरा कंठ फिर चुप हो रही।


शक्ति प्रतिनिधि उस दृप्त सुलतान की

अनुनय भरी वाणी गूँज उठा कान में।

"देखता हूँ मरना ही भारत की नारियों का

एक गीत-भार हैं!

रानी तुम बन्दिनी हो मेरी प्रार्थनाओं में

पद्मिमी को खो दिया हैं

किन्तु तुमको नहीं!

शासन करोगी इन मेरी क्रुरताओं पर

निज कोमलता से-मानस की माधुरी से!

आज इस तीव्र उत्तेजना की आँधी में

सुन न सकोगी, न विचार ही करोगी तुम

ठहरो विश्राम करों।"

अति द्रुत गति से

कब सुलतान गये

जान सकी मैं न, और तब से

यह रंगमहल बना सुवर्ण पींजरा।


"एक दिन, संध्या थी;

मलिन उदास मेरे हृदय पटल-सा

लाल पीला होता था दिगन्त निज क्षोभ से।

यमुना प्रशान्त मन्द-मन्द निज धारा में,

करुण विषाद मयी

बहती थी धरा के तरल अवसाद-सी।

बैठी हुई कालिमा की चित्र-पटी देखती

सहसा मैं चौंक उठी द्रुत पद-शब्द से।


सामने था

शैशव से अनुचर

मानिक युवक अब

खिंच गया सहसा

पश्चिम-जलधि-कूल का वह सुरम्य चित्र

मेरी इन दुखिया अँखड़ियों के सामने।

जिसको बना चुका था मेरा यह बालपन

अद्भुत कुतूहल औ' हँसी की कहानी से।


मैने कहा:-

"कैसे तू अभागा यहाँ पहुँचा हैं मरने?"

"मरने तो नहीं यहाँ जीवन की आशा में

आ गया हूँ रानी! -भला

कैसे मैं न आता यहाँ?"

कह, वह चुप था।

छूरे एक हाथ में

दूसरे सो दोनों हाथ पकड़े हुए वहीं

प्रस्तुत थीं तातारी दासियाँ।

सहसा सुलतान भी दिखाई पड़े,

और मैं थी मूक गरिमा के इन्द्रजाल में ।


"मृत्युदंड!"

वज्र-निर्घोष-सा सुनाई पड़ा भीषणतम

मरता है मानिक!

गूँज उठा कानों में-

"जीवन अलभ्य हैं; जीवन सौभाग्य हैं।"

उठी एक गर्व-सी

किन्तु झुक गई अनुनय की पुकार में

"उसे छोड़ दीजिए" - निकल पडा मुँह से।


हँसे सुलतान,और अप्रतिम होती मैं

जकड़ी हुई थी अपनी ही लाज-शृंखला में।

प्रार्थना लौटाने का उपाय अब कौन था?

अपने अनुग्रह के भार से दबाते हुए

कहा सुलतान ने-

"जाने दो रानी की पहली यह आज्ञा हैं।"

हाय रे हृदय! तूने

कौड़ी के मोल बेचा जीवन का मणि-कोष

और आकाश को पकड़ने की आशा में

हाथ ऊँचा किये सिर दे दिया अतल में।


"अन्तर्निहित था

लालसाएँ, वासनाएँ जितनी अभाव में

जीवन की दीनता में और पराधीनता में

पलने लगीं वे चेतना के अनजान में।

धीरे-धीरे आती हैं जैसे मादकता

आँखों के अजान में, ललाई में ही छिपती;

चेतना थी जीवन की फिर प्रतिशोध की।

किन्तु किस युग से वासना के बिन्दु रहे सींचते

मेरे संवेदनो को।

यामिनी के गूढ़ अन्धकार में

सहसा जो जाग उठे तारा से

दुर्बलता को मानती-सी अवलम्ब मैं

खडी हुई जीवन की पिच्छिल-सी भूमि पर।

बिखरे प्रलोभनों को मानती-सी सत्य मैं

शासन की कामना में झूमी मतवाली हो।


एक क्षण, भावना के उस परिवर्तन का

कितना अर्जित था?

जीवित हैं गुर्ज्जरेश! कर्णदेव!

भेजा संदेश मुझे "शीध्र अन्त कर दो

जीवन की लीला।"

लालसा की अर्द्ध कृति-सी!

उस प्रत्यावर्तन मे प्राण जो न दे सके, हाँ

जीवित स्वयं हैं।


जियें फिर क्यों न सब अपनी ही आशा में?

बन्दिनी हुई मैं अबला थी;

प्राणों का लोभ उन्हें फिर क्यों न बचा सका?

प्रेम कहाँ मेरा था?

और मुझमे भी कैसे कहूँ शुद्ध प्रेम था।

मानिक कहता हैं, आह, मुझे मर जाने को।

रूप न बनाया रानी मुझे गुजरात की,

वही रूप आज मुझे प्रेरित था करता

भारतेश्वरी का पद लेने को।


लोभ मेरा मूर्तिमान, प्रतिशोध था बना

और सोचती थी मैं, आज हूँ विजयिनी

चिर पराजित सुलतान पद तल में।

कृष्णागुरुवर्तिका

जल चुकी स्वर्ण पात्र के ही अभिमान में

एक धूम-रेखा मात्र शेष थी,

उस निस्पन्द रंग मन्दिर के व्योम में

क्षीणगन्ध निरवलम्ब।

किन्तु मैं समझती थी, यही मेरी जीवन हैं!

यह उपहार हैं, शृंगार हैं।

मेरा रूप माधुरी का।


मणि नूपुरों की बीन बजी, झनकार से

गूँज उठी रंगशाला इस सौन्दर्य की

विश्व था मनाता महोत्सव अभिमान का

आज विजयी था रूप

और साम्राज्य था नृशंस क्रूरताओं का

रूप माधुरी की कृपा-कोर को निरखता

जिसमें मदोद्धत कटाक्ष की अरुणिमा

व्यंग्य करती थी विश्व भर के अनुराग पर।

अवहेलना से अनुग्रह थे बिखरते ।

जीवन के स्वप्न सब बनते-बिगड़ते थे

भवें बल खाती जब;

लोगों की अदृष्ट लिपि लिखी-पढ़ी जाती थी

इस मुसक्यान के, पद्मराग-उद्गम से

बहता सुगन्ध की सुधा का सोता मन्द-मन्द।


रतन राजि, सींची जाती सुमन-मरन्द से

कितनी ही आँखों की प्रसन्न नील ताराएँ

बनने को मुकुर-अचंचल, निस्पन्द थी।

इन्हीं मीन दृगों को चपल संकेत बन

शासन, कुमारिका से हिमालय-शृंग तक

अथक अबाध और तीव्र मेध-ज्योति-सा

चलता था-

हुआ होगा बनना सफल जिसे देखकर

मंजु मीन-केतन अनंग का।

मुकुट पहनते थे सिर, कभी लोटते थे

रक्त दग्ध धरणी मे रूप की विजय में।

हर में सुलतान की

देखती सशंक दृग कोरों से

निज अपमान को।"


"बेच दिया

विश्व इन्द्रजाल में सत्य कहते हैं जिसे;

उसी मानवता के आत्म सम्मान को।"

जीवन में आता हैं परखने का

जिसे कोई एक क्षण,

लोभ, लालसा या भय, क्रोध, प्रतिशोध के

उग्र कोलाहल में,

जिसकी पुकार सुनाई ही नही पड़ती।

सोचा था उस दिन:

जिस दिन अधिकार-क्षुब्ध उस दास ने,

अन्त किया छल से काफूर ने

अलाउद्दीन का, मुमूर्षु सुलतान का।


आँधी में नृशंसता की रक्त-वर्षा होने लगी

रूप वाले, शीश वाले, प्यार से फले हुए

प्राणी राज-वंश के

मारे गये।

वह एक रक्तमयी सन्ध्या थी।

शक्तिशाली होना अहोभाग्य हैं

और फिर

बाधा-विध्न-आपदा के तीव्र प्रतिघात का

सबल विरोध करने में कैसा सुख हैं?

इसका भी अनुभव हुआ था भली-भाँति मुझे

किन्तु वह छलना थी मिथ्या अधिकार की।


जिस दिन सुना अकिंचन परिवारी ने;

आजीवन दास ने, रक्त से रँगे हुए;

अपने ही हाथों पहना है राज मुकुट।


अन्त कर दास राजवंश का,

लेकर प्रचंड़ प्रतिशोध निज स्वामी का

मानिक ने, खुसरु के नाम से

शासन का दंड किया ग्रहण सदर्प हैं।

उसी दिन जान सकी अपनी मैं सच्ची स्थिति

मैं हूँ किस तल पर?

सैकड़ों ही वृश्चिकों का डंक लगा एक साथ

मैं जो करने थी आई

उसे किया मानिक ने।

खुसरु ने!!


उद्धत प्रभुत्व का

वात्याचक्र! उठा प्रतिशोध-दावानल में

कह गया अभी-अभी नीच परिवारी वह!

"नारी यह रूप तेरा जीवित अभिशाप हैं

जिसमें पवित्रता की छाया भी पड़ी नहीं।

जितने उत्पीड़न थे चूर हो दबे हुए,

अपना अस्तित्व हैं पुकारते,

नश्वर संसार में

ठोस प्रतिहिंसा की प्रतिध्वनि है चाहते।"

"लूटा था दृप्त अधिकार में

जितना विभव, रूप, शील और गौरव को

आज वे स्वतंत्र हो बिखरते है!

एक माया-स्पूत-सा

हो रहा है लोप इन आँखों के सामने।"


देख कमलावती।

ढुलक रही हैं हिम-बिन्दु-सी

सत्ता सौन्दर्य के चपल आवरण की।

हँसती है वासना की छलना पिशाची-सी

छिपकर चारों और व्रीड़ा की अँगुलियाँ

करती संकेत हैं व्यंग्य उपहास में ।

ले चली बहाती हुई अन्ध के अतल में

वेग भरी वासना

अन्तक शरभ के

काले-काले पंख ढकते हैं अन्ध तम से।

पुण्य ज्योति हीन कलुषित सौन्दर्य का-

गिरता नक्षत्र नीचे कालिमा की धारा-सा

असफल सृष्टि सोती-

प्रलय की छाया में।


5. ले चल वहाँ भुलावा देकर

ले चल वहाँ भुलावा देकर

मेरे नाविक ! धीरे-धीरे ।

जिस निर्जन में सागर लहरी,

अम्बर के कानों में गहरी,

निश्छल प्रेम-कथा कहती हो-

तज कोलाहल की अवनी रे ।


जहाँ साँझ-सी जीवन-छाया,

ढीली अपनी कोमल काया,

नील नयन से ढुलकाती हो-

ताराओं की पाँति घनी रे ।


जिस गम्भीर मधुर छाया में,

विश्व चित्र-पट चल माया में,

विभुता विभु-सी पड़े दिखाई-

दुख-सुख बाली सत्य बनी रे ।


श्रम-विश्राम क्षितिज-वेला से

जहाँ सृजन करते मेला से,

अमर जागरण उषा नयन से-

बिखराती हो ज्योति घनी रे !

6. निज अलकों के अंधकार में

निज अलकों के अन्धकार मे

तुम कैसे छिप आओगे?

इतना सजग कुतूहल! ठहरो,

यह न कभी बन पाओगे!


आह, चूम लूँ जिन चरणों को

चाँप-चाँपकर उन्हें नहीं

दुख दो इतना, अरे अरुणिमा

ऊषा-सी वह उधर बही।


वसुधा चरण-चिह्न-सी बनकर

यहीं पड़ी रह जावेगी ।

प्राची रज कुंकुम ले चाहे

अपना भाल सजावेगी ।


देख मैं लूँ, इतनी ही तो है इच्छा?

लो सिर झुका हुआ।

कोमल किरन-उँगलियो से ढँक दोगे

यह दृग खुला हुआ ।


फिर कह दोगे;पहचानो तो

मैं हूँ कौन बताओ तो ।

किन्तु उन्हीं अधरों से, पहले

उनकी हँसी दबाओ तो।


सिहर रेत निज शिथिल मृदुल

अंचल को अधरों से पकड़ो ।

बेला बीत चली हैं चंचल

बाहु-लता से आ जकड़ो।


तुम हो कौन और मैं क्या हूँ?

इसमें क्या है धरा, सुनो,

मानस जलधि रहे चिर चुम्बित

मेरे क्षितिज! उदार बनो।

7. मधुप गुनगुनाकर कह जाता

मधुप गुनगुना कर कह जाता कौन कहानी अपनी,

मुरझा कर गिर रही पत्तियां देखो कितनी आज घनी


इस गंभीर अनंत नीलिमा में अस्संख्य जीवन-इतिहास-

यह लो, करते ही रहते हैं अपना व्यंग्य-मलिन उपहास


तब बही कहते हो-काह डालूं दुर्बलता अपनी बीती !

तुम सुनकर सुख पाओगे, देखोगे – यह गागर रीती


किन्तु कहीं ऐसा ना हो की तुम खली करने वाले-

अपने को समझो-मेरा रस ले अपनी भरने वाले


यह विडम्बना! अरी सरलते तेरी हँसी उड़ाऊँ मैं

भूलें अपनी, या प्रवंचना औरों की दिखलाऊं मैं


उज्जवल गाथा कैसे गाऊं मधुर चाँदनी रातों की

अरे खिलखिला कार हसते होने वाली उन बातों की


मिला कहाँ वो सुख जिसका मैं स्वप्न देख कार जाग गया?

आलिंगन में आते-आते मुसक्या कर जो भाग गया


जिसके अरुण-कपोलों की मतवाली सुंदर छाया में

अनुरागिनी उषा लेती थी निज सुहाग मधुमाया में


उसकी स्मृति पाथेय बनी है थके पथिक की पन्था की

सीवन को उधेड कर देखोगे क्यों मेरी कन्था की?


छोटे-से जीवन की कैसे बड़ी कथाएं आज कहूँ?

क्या ये अच्छा नहीं कि औरों की सुनता मैं मौन रहूँ?


सुनकर क्या तुम भला करोगे-मेरी भोली आत्म-कथा?

अभी समय बही नहीं- थकी सोई है मेरी मौन व्यथा

8. अरी वरुणा की शांत कछार

अरी वरुणा की शांत कछार !

तपस्वी के वीराग की प्यार !


सतत व्याकुलता के विश्राम, अरे ऋषियों के कानन कुञ्ज!

जगत नश्वरता के लघु त्राण, लता, पादप,सुमनों के पुञ्ज!

तुम्हारी कुटियों में चुपचाप, चल रहा था उज्ज्वल व्यापार

स्वर्ग की वसुधा से शुचि संधि, गूंजता था जिससे संसार


अरी वरुणा की शांत कछार !

तपस्वी के वीराग की प्यार !


तुम्हारे कुंजो में तल्लीन, दर्शनों के होते थे वाद

देवताओं के प्रादुर्भाव, स्वर्ग के सपनों के संवाद

स्निग्ध तरु की छाया में बैठ, परिषदें करती थी सुविचार-

भाग कितना लेगा मस्तिष्क,हृदय का कितना है अधिकार?


अरी वरुणा की शांत कछार !

तपस्वी के वीराग की प्यार !


छोड़कर पार्थिव भोग विभूति, प्रेयसी का दुर्लभ वह प्यार

पिता का वक्ष भरा वात्सल्य, पुत्र का शैशव सुलभ दुलार

दुःख का करके सत्य निदान, प्राणियों का करने उद्धार

सुनाने आरण्यक संवाद, तथागत आया तेरे द्वार


अरी वरुणा की शांत कछार !

तपस्वी के वीराग की प्यार !


मुक्ति जल की वह शीतल बाढ़,जगत की ज्वाला करती शांत

तिमिर का हरने को दुख भार, तेज अमिताभ अलौकिक कांत

देव कर से पीड़ित विक्षुब्ध, प्राणियों से कह उठा पुकार–

तोड़ सकते हो तुम भव-बंध, तुम्हें है यह पूरा अधिकार


अरी वरुणा की शांत कछार !

तपस्वी के वीराग की प्यार !


छोड़कर जीवन के अतिवाद, मध्य पथ से लो सुगति सुधार.

दुःख का समुदय उसका नाश, तुम्हारे कर्मो का व्यापार

विश्व-मानवता का जयघोष, यहीं पर हुआ जलद-स्वर-मंद्र

मिला था वह पावन आदेश, आज भी साक्षी है रवि-चंद्र


अरी वरुणा की शांत कछार !

तपस्वी के वीराग की प्यार !


तुम्हारा वह अभिनंदन दिव्य और उस यश का विमल प्रचार

सकल वसुधा को दे संदेश, धन्य होता है बारम्बार

आज कितनी शताब्दियों बाद, उठी ध्वंसों में वह झंकार

प्रतिध्वनि जिसकी सुने दिगन्त, विश्व वाणी का बने विहार

9. हे सागर संगम अरुण नील

हे सागर संगम अरुण नील!


अतलान्त महा गंभीर जलधि

तज कर अपनी यह नियत अवधि,

लहरों के भीषण हासों में

आकर खारे उच्छ्वासों में


युग युग की मधुर कामना के

बन्धन को देता ढील।

हे सागर संगम अरुण नील।


पिंगल किरनों-सी मधु-लेखा,

हिमशैल बालिका को तूने कब देखा!


कवरल संगीत सुनाती,

किस अतीत युग की गाथा गाती आती।


आगमन अनन्त मिलन बनकर

बिखराता फेनिल तरल खील।

हे सागर संगम अरुण नील!


आकुल अकूल बनने आती,

अब तक तो है वह आती,


देवलोक की अमृत कथा की माया

छोड़ हरित कानन की आलस छाया


विश्राम माँगती अपना।

जिसका देखा था सपना


निस्सीम व्योम तल नील अंक में

अरुण ज्योति की झील बनेगी कब सलील?

हे सागर संगम अरुण नील!

10. उस दिन जब जीवन के पथ में

उस दिन जब जीवन के पथ में,

छिन्न पात्र ले कम्पित कर में,

मधु-भिक्षा की रटन अधर में,

इस अनजाने निकट नगर में,

आ पहुँचा था एक अकिंचन।


उस दिन जब जीवन के पथ में,

लोगों की आखें ललचाईं,

स्वयं माँगने को कुछ आईं,

मधु सरिता उफनी अकुलाईं,

देने को अपना संचित धन।


उस दिन जब जीवन के पथ में,

फूलों ने पंखुरियाँ खोलीं,

आँखें करने लगी ठिठोली;

हृदय ने न सम्हाली झोली,

लुटने लगे विकल पागल मन।


उस दिन जब जीवन के पथ में,

छिन्न पात्र में था भर आता

वह रस बरबस था न समाता;

स्वयं चकित-सा समझ न पाता

कहाँ छिपा था, ऐसा मधुवन!


उस दिन जब जीवन के पथ में,

मधु-मंगल की वर्षा होती,

काँटों ने भी पहना मोती,

जिसे बटोर रही थी रोती

आशा, समझ मिला अपना धन।


11. आँखों से अलख जगाने को

आँखों से अलख जगाने को,

यह आज भैरवी आई है

उषा-सी आँखों में कितनी,

मादकता भरी ललाई है


कहता दिगन्त से मलय पवन

प्राची की लाज भरी चितवन-

है रात घूम आई मधुबन,

यह आलस की अंगराई है


लहरों में यह क्रीड़ा-चंचल,

सागर का उद्वेलित अंचल

है पोंछ रहा आँखें छलछल,

किसने यह चोट लगाई है ?

12. आह रे, वह अधीर यौवन

आह रे, वह अधीर यौवन !


मत्त-मारुत पर चढ़ उद्भ्रांत,

बरसने ज्यों मदिरा अश्रांत-

सिंधु वेला-सी घन मंडली,

अखिल किरणों को ढँककर चली,

भावना के निस्सीम गगन,

बुद्धि-चपला का क्षण–नर्तन-

चूमने को अपना जीवन,

चला था वह अधीर यौवन!

आह रे, वह अधीर यौवन !


अधर में वह अधरों की प्यास,

नयन में दर्शन का विश्वास,

धमनियों में आलिन्गनमयी–

वेदना लिये व्यथाएँ नयी,

टूटते जिससे सब बंधन,

सरस सीकर से जीवन-कन,

बिखर भर देते अखिल भुवन,

वही पागल अधीर यौवन !

आह रे, वह अधीर यौवन !


मधुर जीवन के पूर्ण विकास,

विश्व-मधु-ऋतु के कुसुम-विकास,

ठहर, भर आँखों देख नयी-

भूमिका अपनी रंगमयी,

अखिल की लघुता आई बन–

समय का सुन्दर वातायन,

देखने को अदृष्ट नर्तन

अरे अभिलाषा के यौवन !

आह रे, वह अधीर यौवन !!

13. तुम्हारी आँखों का बचपन

तुम्हारी आँखों का बचपन!


खेलता था जब अल्हड़ खेल,

अजिर के उर में भरा कुलेल,

हारता था हँस-हँस कर मन,

आह रे, व्यतीत जीवन!


साथ ले सहचर सरस वसन्त,

चंक्रमण करता मधुर दिगन्त,

गूँजता किलकारी निस्वन,

पुलक उठता तब मलय-पवन।


स्निग्ध संकेतों में सुकुमार,

बिछल,चल थक जाता जब हार,

छिड़कता अपना गीलापन,

उसी रस में तिरता जीवन।


आज भी हैं क्या नित्य किशोर

उसी क्रीड़ा में भाव विभोर

सरलता का वह अपनापन

आज भी हैं क्या मेरा धन!


तुम्हारी आँखों का बचपन!

14. अब जागो जीवन के प्रभात

अब जागो जीवन के प्रभात!


वसुधा पर ओस बने बिखरे

हिमकन आँसू जो क्षोम भरे

ऊषा बटोरती अरुण गात!


तम-नयनो की ताराएँ सब

मुँद रही किरण दल में हैं अब,

चल रहा सुखद यह मलय वात!


रजनी की लाज समेटी तो,

कलरव से उठ कर भेंटो तो,

अरुणांचल में चल रही वात।

15. कोमल कुसुमों की मधुर रात

कोमल कुसुमों की मधुर रात !


शशि-शतदल का यह सुख विकास,

जिसमें निर्मल हो रहा हास,

उसकी सांसो का मलय वात !

कोमल कुसुमों की मधुर रात !


वह लाज भरी कलियाँ अनंत,

परिमल-घूँघट ढँक रहा दन्त,

कंप-कंप चुप-चुप कर रही बात.

कोमल कुसुमों की मधुर रात !


नक्षत्र-कुमुद की अलस माल,

वह शिथिल हँसी का सजल जाल-

जिसमें खिल खुलते किरण पात

कोमल कुसुमों की मधुर रात !


कितने लघु-लघु कुडलम अधीर,

गिरते बन शिशिर-सुगंध-नीर,

हों रहा विश्व सुख-पुलक गात

16. कितने दिन जीवन जल-निधि में

कितने दिन जीवन जल-निधि में


विकल अनिल से प्रेरित होकर

लहरी, कूल चूमने चलकर

उठती गिरती-सी रुक-रुककर

सृजन करेगी छवि गति-विधि में !


कितनी मधु-संगीत-निनादित

गाथाएँ निज ले चिर-संचित

तरल तान गावेगी वंचित!

पागल-सी इस पथ निरवधि में!


दिनकर हिमकर तारा के दल

इसके मुकुर वक्ष में निर्मल

चित्र बनायेंगे निज चंचल!

आशा की माधुरी अवधि में !

17. मेरी आँखों की पुतली में

मेरी आँखों की पुतली में

तू बनकर प्रान समा जा रे!


जिसके कन-कन में स्पन्दन हो,

मन में मलयानिल चन्दन हो,

करुणा का नव-अभिनन्दन हो

वह जीवन गीत सुना जा रे!


खिंच जाये अधर पर वह रेखा

जिसमें अंकित हो मधु लेखा,

जिसको वह विश्व करे देखा,

वह स्मिति का चित्र बना जा रे !

18. जग की सजल कालिमा रजनी

जग की सजल कालिमा रजनी में मुखचन्द्र दिखा जाओ

ह्रदय अँधेरी झोली इनमे ज्योति भीख देने आओ

प्राणों की व्याकुल पुकार पर एक मींड़ ठहरा जाओ

प्रेम वेणु की स्वर- लहरी में जीवन - गीत सुना जाओ


स्नेहालिंगन की लतिकाओं की झुरमुट छा जाने दो

जीवन-धन ! इस जले जगत को वृन्दावन बन जाने दो

19. वसुधा के अंचल पर

वसुधा के अंचल पर

यह क्या कन-कन-सा गया बिखर?

जल शिशु की चंचल कीड़ा-सा,

जैसे सरसिज दल पर।


लालसा निराशा में ढलमल

वेदना और सुख में विह्वल

यह क्या है रे मानव जीवन?

कितना है रहा निखर।


मिलने चलने जब दो कन,

आकर्षण-मय चुम्बन बन,

दल के नस-नस मे बह जाती

लघु-लघु धारा सुन्दर।


हिलता-ढुलता चंचल दल,

ये सब कितने हैं रहे मचल

कन-कन अनन्त अम्बुधि बनते।

कब रुकती लीला निष्ठुर।


तब क्यों रे फिर यह सब क्यों?

यह रोष भरी लाली क्यों?

गिरने दे नयनों से उज्जवल

आँसू के कन मनहर।


वसुधा के अंचल पर।

20. अपलक जगती हो एक रात

अपलक जगती हो एक रात!


सब सोये हों इस भूतल में,

अपनी निरीहता सम्बल में

चलती हो कोई भी न बात!


पथ सोये हों हरियाली में,

हों सुमन सो रहे डाली में,

हो अलस उनींदी नखत पाँत!


नीरव प्रशान्ति का मौन बना,

चुपके किसलय से बिछल छता;

थकता हो पंथी मलय-बात।


वक्षस्थल में जो छिपे हुए

सोते हों हृदय अभाव लिए

उनके स्वप्नों का हो न प्रात।

21. जगती की मंगलमयी उषा बन

जगती की मंगलमयी उषा बन,

करुणा उस दिन आई थी,

जिसके नव गैरिक अंचल की प्राची में भरी ललाई थी


भय- संकुल रजनी बीत गई,

भव की व्याकुलता दूर गई,

घन-तिमिर-भार के लिए तड़ित स्वर्गीय किरण बन आई थी


खिलती पंखुरी पंकज- वन की,

खुल रही आँख रिषी पत्तन की,

दुख की निर्ममता निरख कुसुम -रस के मिस जो भार आई थी


कल-कल नादिनी बहती-बहती-

प्राणी दुख की गाथा कहती-

वरूणा द्रव होकर शांति-वारि शीतलता-सी भर लाई थी


पुलकित मलयानिल कूलो में,

भरता अंजलि था फूलों में ,

स्वागत था अभया वाणी का निष्ठुरता लिये बिदाई थी


उन शांत तपोवन कुंजो में,

कुटियों, त्रिन विरुध पुंजो में,

उटजों में था आलोक भरा कुसुमित लतिका झुक आई थी


मृग मधुर जुगाली करते से,

खग कलरव में स्वर भरते से,

विपदा से पूछ रहे किसकी पद्ध्वनी सुनने में आई थी


प्राची का पथिक चला आता ,

नभ पद- पराग से भर जाता,

वे थे पुनीत परमाणु दया ने जिसने सृष्टि बनाई थी.

तप की तारुन्यमयी प्रतिमा,

प्रज्ञा पारमिता की गरिमा,

इस व्यथित विश्व की चेतनता गौतम सजीव बन आई थी


उस पावन दिन की पुण्यमयी,

स्मृति लिये धारा है धैर्यमयी,

जब धर्म- चक्र के सतत-प्रवर्तन की प्रसन्न ध्वनि छाई थी


युग-युग की नव मानवता को,

विस्तृत वसुधा की विभुता को,

कल्याण संघ की जन्मभूमि आमंत्रित करती आई थी


स्मृति-चिन्हों की जर्जरता में,

निष्ठुर कर की बर्बरता में,

भूलें हम वह संदेश न जिसने फेरी धर्म दुहाई थी

22. चिर तृषित कंठ से तृप्त-विधुर

चिर संचित कंठ से तृप्त-विधुर

वह कौन अकिंचन अति आतुर

अत्यंत तिरस्कृत अर्थ सदृश

ध्वनि कम्पित करता बार-बार,

धीरे से वह उठता पुकार-

मुझको न मिला रे कभी प्यार


सागर लहरों सा आलिंगन

निष्फल उठकर गिरता प्रतिदिन

जल वैभव है सीमा-विहीन

वह रहा एक कन को निहार,

धीरे से वह उठता पुकार-

मुझको न मिला रे कभी प्यार


अकरुण वसुधा से एक झलक

वह स्मृत मिलने को रहा ललक

जिसके प्रकाश में सकल कर्म

बनते कोमल उज्जवल उदार,

धीरे से वह उठता पुकार-

मुझको न मिला रे कभी प्यार


फैलाती है जब उषा राग

जग जाता है उसका विराग

वंचकता, पीड़ा, घ्ह्रिना, मोह

मिलकर बिखेरते अंधकार,

धीरे से वह उठता पुकार-

मुझको न मिला रे कभी प्यार


ढल विरल डालियाँ भरी मुकुल

झुकती सौरभ रस लिये अतुल

अपने विषद -विष में मूर्छित

काँटों से बिंध कर बार बार,

धीरे से वह उठता पुकार-

मुझको न मिला रे कही प्यार


जीवन रजनी का अमल इंदु

न मिला स्वाति का एक बिंदु

जो ह्रदय सीप में मोती बन

पूरा कर देता लक्षहार,

धीरे से वह उठता पुकार-

मुझको न मिला रे कभी प्यार


पागल रे ! वह मिलता है कब

उसको तो देते ही हैं सब

आँसू के कन-कन से गिन कर

यह विश्व लिये है ऋण उधर,

तू क्यों फिर उठता है पुकार ?

मुझको न मिला रे कभी प्यार

23. काली आँखों का अंधकार

काली आँखों का अन्धकार

तब हो जाता है वार पार,

मद पिये अचेतन कलाकार

उन्मीलित करता क्षितिज पार


वह चित्र! रंग का ले बहार

जिसमें हैं केवल प्यार प्यार!


केवल स्मितिमय चाँदनी रात,

तारा किरनों से पुलक गात,

मधुपों मुकुलों के चले घात,

आता हैं चुपके मलय वात,


सपनों के बादल का दुलार।

तब दे जाता हैं बूँद चार!


तब लहरों-सा उठकर अधीर

तू मधुर व्यथा-सा शून्य चीर,

सूखे किसलय-सा भरा पीर

गिर जा पतझड़ का पा समीर।


पहने छाती पर तरल हार।

पागल पुकार फिर प्यार प्यार!

24. अरे कहीं देखा है तुमने

अरे कहीं देखा हैं तुमने

मुझे प्यार करनेवाले को?

मेरी आँखों में आकर फिर

आँसू बन ढरनेवाले को ?


सूने नभ में आग जलाकर

यह सुवर्ण-सा हृदय गलाकर

जीवन सन्ध्या को नहलाकर

रिक्त जलधि भरनेवाले को ?


रजनी के लघु-तम कन में

जगती की ऊष्मा के वन में

उस पर पड़ते तुहिन सघन में

छिप, मुझसे डरनेवाले को ?


निष्ठुर खेलों पर जो अपने

रहा देखता सुख के सपने

आज लगा है क्या वह कँपने

देख मौन मरनेवाले को ?

25. शशि-सी वह सुन्दर रूप विभा

शशि-सी वह सन्दुर रूप विभा

चाहे न मुझे दिखलाना।

उसकी निर्मल शीलत छाया

हिमकन को बिखरा जाना।


संसार स्वप्न बनकर दिन-सा

आया हैं नहीं जगाने,

मेरे जीवन के सुख निशीध!

जाते-जाते रूक जाना।


हाँ, इन जाने की घड़ियों

कुछ ठहर नहीं जाओगे?

छाया पथ में विश्राम नहीं,

है केवल चलते जाना।


मेरा अनुराग फैलने दो,

नभ के अभिनव कलरव में,

जाकर सूनेपन के तम में

बन किरन कभी आ जाना।

26. अरे ! आ गई है भूली-सी

अरे! आ गई है भूली-सी-

यह मधु ऋतु दो दिन को,

छोटी सी कुटिया मैं रच दूं,

नयी व्यथा-साथिन को!


वसुधा नीचे ऊपर नभ हो,

नीड़ अलग सबसे हो,

झारखण्ड के चिर पतझड में

भागो सूखे तिनको!


आशा से अंकुर झूलेंगे

पल्लव पुलकित होंगे,

मेरे किसलय का लघु भव यह,

आह, खलेगा किन को?


सिहर भरी कपती आवेंगी

मलयानिल की लहरें,

चुम्बन लेकर और जगाकर-

मानस नयन नलिन को


जवा- कुसुम -सी उषा खिलेगी

मेरी लघु प्राची में,

हँसी भरे उस अरुण अधर का

राग रंगेगा दिन को


अंधकार का जलधि लांघकर

आवेंगी शशि- किरणे,

अंतरिक्ष छिरकेगा कन-कन

निशि में मधुर तुहिन को


एक एकांत सृजन में कोई

कुछ बाधा मत डालो,

जो कुछ अपने सुंदर से हैं

दे देने दो इनको

27. निधरक तूने ठुकराया तब

निधरक तूने ठुकराया तब

मेरी टूटी मधु प्याली को,

उसके सूखे अधर माँगते

तेरे चरणों की लाली को।


जीवन-रस के बचे हुए कन,

बिखरे अम्बर में आँसू बन,

वही दे रहा था सावन घन

वसुधा की इस हरियाली को।


निदय हृदय में हूक उठी क्या,

सोकर पहली चूक उठी क्या,

अरे कसक वह कूक उठी क्या,

झंकृत कर सूखी डाली को?


प्राणों के प्यासे मतवाले

ओ झंझा से चलनेवाले।

ढलें और विस्मृति के प्याले,

सोच न कृति मिटनेवाली को।

28. ओ री मानस की गहराई

ओ री मानस की गहराई !


तू सुप्त, शान्त कितनी शीतल

निर्वात मेघ ज्यों पूरित जल

नव मुकुर नीलमणि फलक अमल,

ओ पारदर्शिका! चिर चंचल

यह विश्व बना हैं परछाई !


तेरा विषाद द्रव तरल-तरल

मूर्च्छित न रहे ज्यों पिये गरल

सुख-लहर उठा री सरल-सरल

लधु-लधु सुन्दर-सुन्दर अविरल,

तू हँस जीवन की सुधराई !


हँस, झिलमिल हो लें तारा गन,

हँस खिले कुंज में सकल सुमन,

हँस, बिखरें मधु मरन्द के कन,

बनकर संसृति के तव श्रम कन,

सब कहें दें 'वह राका आई !'


हँस ले भय शोक प्रेम या रण,

हँस ले काला पट ओढ़ मरण,

हँस ले जीवन के लघु-लघु क्षण,

देकर निज चुम्बन के मधुकण,

नाविक अतीत की उत्तराई !

29. मधुर माधवी संध्या में

मधुर माधवी संध्या मे जब रागारुण रवि होता अस्त,

विरल मृदल दलवाली डालों में उलझा समीर जब व्यस्त,


प्यार भरे श्मालम अम्बर में जब कोकिल की कूक अधीर

नृत्य शिथिल बिछली पड़ती है वहन कर रहा है उसे समीर


तब क्यों तू अपनी आँखों में जल भरकर उदास होता,

और चाहता इतना सूना-कोई भी न पास होता,


वंचित रे! यह किस अतीत की विकल कल्पना का परिणाम?

किसी नयन की नील दिशा में क्या कर चुका विश्राम?


क्या झंकृत हो जाते हैं उन स्मृति किरणों के टूटे तार?

सूने नभ में स्वर तरंग का फैलाकर मधु पारावार,


नक्षत्रों से जब प्रकाश की रश्मि खेलने आती हैं,

तब कमलों की-सी जब सन्ध्या क्यों उदास हो जाती है ?


30. अंतरिक्ष में अभी सो रही है

अंतरिक्ष में अभी सो रही है उषा मधुबाला,

अरे खुली भी अभी नहीं तो प्राची की मधुशाला


सोता तारक-किरन-पुलक रोमावली मलयज वात,

लेते अंगराई नीड़ों में अलस विहंग मृदु गात,

रजनि रानी की बिखरी है म्लान कुसुम की माला,

अरे भिखारी! तू चल पड़ता लेकर टुटा प्याला


गूंज उठी तेरी पुकार- 'कुछ मुझको भी दे देना-

कन-कन बिखरा विभव दान कर अपना यश ले लेना'


दुख-सुख के दोनों डग भरता वहन कर रहा गात,

जीवन का दिन पथ चलने में कर देगा तू रात,


तू बढ़ जाता अरे अकिंचन,छोड़ करुण स्वर अपना,

सोने वाले जग कर देंखें अपने सुख का सपना

31. शेरसिंह का शस्त्र समर्पण

"ले लो यह शस्त्र है

गौरव ग्रहण करने का रहा कर मैं--

अब तो ना लेश मात्र

लाल सिंह ! जीवित कलुष पंचनद का

देख दिये देता है

सिहों का समूह नख-दंत आज अपना"


"अरी, रण - रंगिनी !

कपिशा हुई थी लाल तेरा पानी पान कर


दुर्मद तुरंत धर्म दस्युओं की त्रासिनी--

निकल,चली जा त प्रतारणा के कर से"


"अरी वह तेरी रही अंतिम जलन क्या ?

तोपें मुँह खोले खड़ी देखती थी तरस से

चिलियानवाला में

आज के पराजित तो विजयी थे कल ही,

उनके स्मर वीर कल में तु नाचती

लप-लप करती थी --जीभ जैसे यम की

उठी तू न लूट त्रास भय से प्रचार को,

दारुण निराशा भरी आँखों से देखकर

दृप्त अत्याचार को

एक पुत्र-वत्सला दुराशामयी विधवा

प्रकट पुकार उठी प्राण भरी पीड़ा से--

और भी;


जन्मभूमि, दलित विकल अपमान से

त्रस्त हो कराहती थी

कैसे फिर रुकती ?"

"आज विजयी हों तुमऔर हैं पराजित हम

तुम तो कहोगे, इतिहास भी कहेगा यही,

किन्तु यह विजय प्रशंसा भरी मन की--एक छलना है.

वीर भूमि पंचनद वीरता से रिक्त नहीं.

काठ के हों गोले जहाँ

आटा बारूद हों;

और पीठ पर हों दुरंत दंशनो का तरस

छाती लडती हो भरी आग,बाहु बल से

उस युद्ध में तो बस मृत्यु ही विजय है.

सतलज के तटपर मृत्यु श्यामसिंह की--

देखी होगी तुमने भी वृद्ध वीर मूर्ति वह,

तोड़ा गया पुल प्रत्यावर्तन के पथ में

अपने प्रवंचको से

लिखता अदृष्ट था विधाता वाम कर से

छल में विलीन बल--बल में विषाद था --

विकल विलास का

यवनों के हाथों से स्वतंत्रता को छीन कर

खेलता था यौवन-विलासी मत्त पंचनद--

प्रणय-विहीन एक वासना की छाया में

फिर भी लड़े थे हम निज प्राण-पण से

कहेगी शतद्रु शत-संगरों की साक्षिणी,

सिक्ख थे सजीव--

स्वत्व-रक्षा में प्रबुद्ध थे

जीना जानते थे

मरने को मानते थे सिक्ख

किन्तु, आज उनका अतीत वीर-गाथा हुई--

जीत होती जिसकी

वही है आज हारा हुआ

"उर्जस्वित रक्त और उमंग भरा मन था

जिन युवकों के मणिबंधों में अबंध बल

इतना भरा था जो

उलटता शतध्वनियों को

गोले जिनके थे गेंद

अग्निमयी क्रीड़ा थी

रक्त की नदी में सिर ऊँचा छाती कर

तैरते थे

वीर पंचनद के सपूत मातृभूमि के

सो गए प्रतारना की थपकी लगी उन्हें

छल-बलिवेदी पर आज सब सो गए

पुतली प्रणयिनी का बाहुपाश खोलकर ,

दूध भरी दूध-सी दुलार भरी माँ गोद

सूनी कर सो गए

हुआ है सुना पंचनद

भिक्षा नहीं मांगता हूँ

आज इन प्राणों की

क्योंकि, प्राण जिसका आहार, वही इसकी

रखवाली आप करता है, महाकाल ही;

शेर पंचनद का प्रवीर रणजीतसिंह

आज मरता है देखो;

सो रहा पंचनद आज उसी शोक में.

यह तलवार लो

ले लो यह थाती है"

32. पेशोला की प्रतिध्वनि

अरुण करुण बिम्ब !

वह निर्धूम भस्म रहित ज्वलन पिंड !

विकल विवर्तनों से

विरल प्रवर्तनों में

श्रमित नमित सा-

पश्चिम के व्योम में है आज निरवलम्ब सा

आहुतियाँ विश्व की अजस्र से लुटाता रहा-

सतत सहस्त्र कर माला से-

तेज ओज बल जो व्दंयता कदम्ब-सा


पेशोला की उर्मियाँ हैं शांत,घनी छाया में-

तट तरु है चित्रित तरल चित्रसारी में

झोपड़े खड़े हैं बने शिल्प से विषाद के-

दग्ध अवसाद से

धूसर जलद खंड भटक पड़े हों-

जैसे विजन अनंत में

कालिमा बिखरती है संध्या के कलंक सी,

दुन्दुभि-मृदंग-तूर्य शांत स्तब्ध, मौन हैं


फिर भी पुकार सी है गूँज रही व्योम में-

"कौन लेगा भार यह ?

कौन विचलेगा नहीं ?

दुर्बलता इस अस्थिमांस की -

ठोंक कर लोहे से, परख कर वज्र से,

प्रलयोल्का खंड के निकष पर कस कर

चूर्ण अस्थि पुंज सा हँसेगा अट्टहास कौन ?

साधना पिशाचों की बिखर चूर-चूर होके

धूलि सी उड़ेगी किस दृप्त फूत्कार से ?


कौन लेगा भार यह ?

जीवित है कौन ?

साँस चलती है किसकी

कहता है कौन ऊँची छाती कर, मैं हूँ-

मैं हूँ- मेवाड़ में,


अरावली श्रृंग-सा समुन्नत सिर किसका ?

बोलो कोई बोलो-अरे क्या तुम सब मृत हों ?


आह, इस खेवा की!-

कौन थमता है पतवार ऐसे अंधर में

अंधकार-पारावार गहन नियति-सा-

उमड़ रहा है ज्योति-रेखा-हीन क्षुब्ध हो !

खींच ले चला है-

काल-धीवर अनंत में,

साँस सिफरि सी अटकी है किसी आशा में


आज भी पेशोला के-

तरल जल मंडलों में,

वही शब्द घूमता सा-

गूँजता विकल है

किन्तु वह ध्वनि कहाँ ?

गौरव की काया पड़ी माया है प्रताप की

वही मेवाड़ !

किन्तु आज प्रतिध्वनि कहाँ है ?"

33. बीती विभावरी जाग री

बीती विभावरी जाग री !


अम्बर पनघट में डूबो रही

तारा-घट उषा नागरी ।


खग-कुल कुल कुल-सा बोल रहा,

किसलय का अंचल डोल रहा,

लो यह लतिका भी भर लाई

मधु मुकुल नवल रस गागरी ।


अधरों में राग अमन्द पिये,

अलकों में मलयज बन्द किये

तू अब तक सोई है आली ।

आँखों मे भरे विहाग री !

 

 








()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()







 


 

Hindi Kahani

हिंदी कहानी

Chanda Jaishankar Prasad

चंदा जयशंकर प्रसाद




1

चैत्र-कृष्णाष्टमी का चन्द्रमा अपना उज्ज्वल प्रकाश 'चन्द्रप्रभा' के निर्मल जल पर डाल रहा है। गिरि-श्रेणी के तरुवर अपने रंग को छोड़कर धवलित हो रहे हैं; कल-नादिनी समीर के संग धीरे-धीरे बह रही है। एक शिला-तल पर बैठी हुई कोलकुमारी सुरीले स्वर से-'दरद दिल काहि सुनाऊँ प्यारे! दरद' ...गा रही है।

गीत अधूरा ही है कि अकस्मात् एक कोलयुवक धीर-पद-संचालन करता हुआ उस रमणी के सम्मुख आकर खड़ा हो गया। उसे देखते ही रमणी की हृदय-तन्त्री बज उठी। रमणी बाह्य-स्वर भूलकर आन्तरिक स्वर से सुमधुर संगीत गाने लगी और उठकर खड़ी हो गई। प्रणय के वेग को सहन न करके वर्षा-वारिपूरिता स्रोतस्विनी के समान कोलकुमार के कंध-कूल से रमणी ने आलिंगन किया।

दोनों उसी शिला पर बैठ गये, और निर्निमेष सजल नेत्रों से परस्पर अवलोकन करने लगे। युवती ने कहा-तुम कैसे आये?

युवक-जैसे तुमने बुलाया।

युवती-(हँसकर) हमने तुम्हें कब बुलाया? और क्यों बुलाया?

युवक-गाकर बुलाया, और दरद सुनाने के लिये।

युवती-(दीर्घ नि:श्वास लेकर) कैसे क्या करूँ? पिता ने तो उसी से विवाह करना निश्चय किया है।

युवक-(उत्तेजना से खड़ा होकर) तो जो कहो, मैं करने के लिए प्रस्तुत हूँ।

युवती-(चन्द्रप्रभा की ओर दिखाकर) बस, यही शरण है।

युवक-तो हमारे लिए कौन दूसरा स्थान है?

युवती-मैं तो प्रस्तुत हूँ।

युवक-हम तुम्हारे पहले।

युवती ने कहा-तो चलो।

युवक ने मेघ-गर्जन-स्वर से कहा-चलो।

दोनों हाथ में हाथ मिलाकर पहाड़ी से उतरने लगे। दोनों उतरकर चन्द्रप्रभा के तट पर आये, और एक शिला पर खड़े हो गये। तब युवती ने कहा-अब विदा!

युवक ने कहा-किससे? मैं तो तुम्हारे साथ-जब तक सृष्टि रहेगी तब तक-रहूँगा।

इतने ही में शाल-वृक्ष के नीचे एक छाया दिखाई पड़ी और वह इन्हीं दोनों की ओर आती हुई दिखाई देने लगी। दोनों ने चकित होकर देखा कि एक कोल खड़ा है। उसने गम्भीर स्वर से युवती से पूछा-चंदा! तू यहाँ क्यों आई?

युवती-तुम पूछने वाले कौन हो?

आगन्तुक युवक-मैं तुम्हारा भावी पति 'रामू' हूँ।

युवती-मैं तुमसे ब्याह न करूँगी।

आगन्तुक युवक-फिर किससे तुम्हारा ब्याह होगा?

युवती ने पहले के आये हुए युवक की ओर इंगित करके कहा-इन्हीं से।

आगन्तुक युवक से अब न सहा गया। घूमकर पूछा-क्यों हीरा! तुम ब्याह करोगे?

हीरा-तो इसमें तुम्हारा क्या तात्पर्य है?

रामू-तुम्हें इससे अलग हो जाना चाहिये।

हीरा-क्यों, तुम कौन होते हो?

रामू-हमारा इससे संबंध पक्का हो चुका है।

हीरा-पर जिससे संबंध होने वाला है, वह सहमत न हो, तब?

रामू-क्यों चंदा! क्या कहती हो?

चंदा-मैं तुमसे ब्याह न करूँगी।

रामू-तो हीरा से भी तुम ब्याह नहीं कर सकतीं!

चंदा-क्यों?

रामू-(हीरा से) अब हमारा-तुम्हारा फैसला हो जाना चाहिये, क्योंकि एक म्यान में दो तलवारें नहीं रह सकतीं।

इतना कहकर हीरा के ऊपर झपटकर उसने अचानक छुरे का वार किया।

हीरा, यद्यपि सचेत हो रहा था; पर उसको सम्हलने में विलम्ब हुआ, इससे घाव लग गया, और वह वक्ष थामकर बैठ गया। इतने में चंदा जोर से क्रन्दन कर उठी-साथ ही एक वृद्ध भील आता हुआ दिखाई पड़ा।


2

युवती मुँह ढाँपकर रो रही है, और युवक रक्ताक्त छूरा लिये, घृणा की दृष्टि से खड़े हुए, हीरा की ओर देख रहा है। विमल चन्द्रिका में चित्र की तरह वे दिखाई दे रहे हैं। वृद्ध को जब चंदा ने देखा, तो और वेग से रोने लगी। उस दृश्य को देखते ही वृद्ध कोल-पति सब बात समझ गया, और रामू के समीप जाकर छूरा उसके हाथ से ले लिया, और आज्ञा के स्वर में कहा-तुम दोनों हीरा को उठाकर नदी के समीप ले चलो।

इतना कहकर वृद्ध उन सबों के साथ आकर नदी-तट पर जल के समीप खड़ा हो गया। रामू और चंदा दोनों ने मिलकर उसके घाव को धोया और हीरा के मुँह पर छींटा दिया, जिससे उसकी मूच्र्छा दूर हुई। तब वृद्ध ने सब बातें हीरा से पूछीं; पूछ लेने पर रामू से कहा-क्यों, यह सब ठीक है?

रामू ने कहा-सब सत्य है।

वृद्ध-तो तुम अब चंदा के योग्य नहीं हो, और यह छूरा भी-जिसे हमने तुम्हें दिया था। तुम्हारे योग्य नहीं है। तुम शीघ्र ही हमारे जंगल से चले जाओ, नहीं तो तुम्हारा हाल महाराज से कह देंगे, और उसका क्या परिणाम होगा सो तुम स्वयं समझ सकते हो। (हीरा की ओर देखकर) बेटा! तुम्हारा घाव शीघ्र अच्छा हो जायगा, घबड़ाना नहीं, चंदा तुम्हारी ही होगी।

यह सुनकर चंदा और हीरा का मुख प्रसन्नता से चमकने लगा, पर हीरा ने लेटे-ही-लेटे हाथ जोड़कर कहा-पिता! एक बात कहनी है, यदि आपकी आज्ञा हो।

वृद्ध-हम समझ गये, बेटा! रामू विश्वासघाती है।

हीरा-नहीं पिता! अब वह ऐसा कार्य नहीं करेगा। आप क्षमा करेंगे, मैं ऐसी आशा करता हूँ।

वृद्ध-जैसी तुम्हारी इच्छा।

कुछ दिन के बाद जब हीरा अच्छी प्रकार से आरोग्य हो गया, तब उसका ब्याह चंदा से हो गया। रामू भी उस उत्सव में सम्मिलित हुआ, पर उसका बदन मलीन और चिन्तापूर्ण था। वृद्ध कुछ ही काल में अपना पद हीरा को सौंप स्वर्ग को सिधारा। हीरा और चंदा सुख से विमल चाँदनी में बैठकर पहाड़ी झरनों का कल-नाद-मय आनन्द-संगीत सुनते थे।


3

अंशुमाली अपनी तीक्ष्ण किरणों से वन्य-देश को परितापित कर रहे हैं। मृग-सिंह एक स्थान पर बैठकर, छाया-सुख में अपने बैर-भाव को भूलकर, ऊँघ रहे हैं। चन्द्रप्रभा के तट पर पहाड़ी की एक गुहा में जहाँ कि छतनार पेड़ों की छाया उष्ण वायु को भी शीतल कर देती है, हीरा और चंदा बैठे हैं। हृदय के अनन्त विकास से उनका मुख प्रफुल्लित दिखाई पड़ता है। उन्हें वस्त्र के लिये वृक्षगण वल्कल देते हैं; भोजन के लिये प्याज, मेवा इत्यादि जंगली सुस्वादु फल, शीतल स्वछन्द पवन; निवास के लिये गिरि-गुहा; प्राकृतिक झरनों का शीतल जल उनके सब अभावों को दूर करता है, और सबल तथा स्वछन्द बनाने में ये सब सहायता देते हैं। उन्हें किसी की अपेक्षा नहीं पड़ती। अस्तु, उन्हीं सब सुखों से आनन्दित व्यक्तिद्वय 'चन्द्रप्रभा' के जल का कल-नाद सुनकर अपनी हृदय-वीणा को बजाते हैं।

चंदा-प्रिय! आज उदासीन क्यों हो?

हीरा-नहीं तो, मैं यह सोच रहा हूँ कि इस वन में राजा आने वाले हैं। हम लोग यद्यपि अधीन नहीं हैं तो भी उन्हें शिकार खेलाया जाता है, और इसमें हम लोगों की कुछ हानि भी नहीं है। उसके प्रतिकार में हम लोगों को कुछ मिलता है, पर आजकल इस वन में जानवर दिखाई नहीं पड़ते। इसलिये सोचता हूँ कि कोई शेर या छोटा चीता भी मिल जाता, तो कार्य हो जाता।

चंदा-खोज किया था?

हीरा-हाँ, आदमी तो गया है।

इतने में एक कोल दौड़ता हुआ आया, और कहा राजा आ गये हैं और तहखाने में बैठे हैं। एक तेंदुआ भी दिखाई दिया है।

हीरा का मुख प्रसन्नता से चमकने लगा, और वह अपना कुल्हाड़ा सम्हालकर उस आगन्तुक के साथ वहाँ पहुँचा, जहाँ शिकार का आयोजन हो चुका था।

राजा साहब झंझरी में बंदूक की नाल रखे हुए ताक रहे हैं। एक ओर से बाजा बज उठा। एक चीता भागता हुआ सामने से निकला। राजा साहब ने उस पर वार किया। गोली लगी, पर चमड़े को छेदती हुई पार हो गई; इससे वह जानवर भागकर निकल गया। अब तो राजा साहब बहुत ही दु:खित हुए। हीरा को बुलाकर कहा-क्यों जी, यह जानवर नहीं मिलेगा?

उस वीर कोल ने कहा-क्यों नहीं?

इतना कहकर वह उसी ओर चला। झाड़ी में, जहाँ वह चीता घाव से व्याकुल बैठा था, वहाँ पहुँचकर उसने देखना आरम्भ किया। क्रोध से भरा हुआ चीता उस कोल-युवक को देखते ही झपटा। युवक असावधानी के कारण वार न कर सका, पर दोनों हाथों से उस भयानक जन्तु की गर्दन को पकड़ लिया, और उसने भी इसके कंधे पर अपने दोनों पंजों को जमा दिया।

दोनों में बल-प्रयोग होने लगा। थोड़ी देर में दोनों जमीन पर लेट गये।


4

यह बात राजा साहब को विदित हुई। उन्होंने उसकी मदद के लिए कोलों को जाने की आज्ञा दी। रामू उस अवसर पर था। उसने सबके पहले जाने के लिए पैर बढ़ाया, और चला। वहाँ जब पहुँचा, तो उस दृश्य को देखकर घबड़ा गया, और हीरा से कहा-हाथ ढीला कर; जब यह छोड़ने लगे, तब गोली मारूँ, नहीं तो सम्भव है कि तुम्हीं को लग जाय।

हीरा-नहीं, तुम गोली मारो।

रामू-तुम छोड़ो तो मैं वार करूँ।

हीरा-नहीं, यह अच्छा नहीं होगा।

रामू-तुम उसे छोड़ो, मैं अभी मारता हूँ।

हीरा-नहीं, तुम वार करो।

रामू-वार करने से सम्भव है कि उछले और तुम्हारे हाथ छूट जायँ, तो तुमको यह तोड़ डालेगा।

हीरा-नहीं, तुम मार लो, मेरा हाथ ढीला हुआ जाता है।

रामू-तुम हठ करते हो, मानते नहीं।

इतने में हीरा का हाथ कुछ बात-चीत करते-करते ढीला पड़ा; वह चीता उछलकर हीरा की कमर को पकड़कर तोड़ने लगा।

रामू खड़ा होकर देख रहा है, और पैशाचिक आकृति उस घृणित पशु के मुख पर लक्षित हो रही है और वह हँस रहा है।

हीरा टूटी हुई साँस से कहने लगा-अब भी मार ले।

रामू ने कहा-अब तू मर ले, तब वह भी मारा जायेगा। तूने हमारा हृदय निकाल लिया है, तूने हमारा घोर अपमान किया है, उसी का प्रतिफल है। इसे भोग।

हीरा को चीता खाये डालता है; पर उसने कहा-नीच! तू जानता है कि 'चंदा' अब तेरी होगी। कभी नहीं! तू नीच है-इस चीते से भी भयंकर जानवर है।

रामू ने पैशाचिक हँसी हँसकर कहा-चंदा अब तेरी तो नहीं है, अब वह चाहे जिसकी हो।

हीरा ने टूटी हुई आवाज से कहा-तुझे इस विश्वासघात का फल शीघ्र मिलेगा और चंदा फिर हमसे मिलेगी। चंदा...प्यारी...च...

इतना उसके मुख से निकला ही था कि चीते ने उसका सिर दाँतों के तले दाब लिया। रामू देखकर पैशाचिक हँसी हँस रहा था। हीरा के समाप्त हो जाने पर रामू लौट आया, और झूठी बातें बनाकर राजा से कहा कि उसको हमारे जाने के पहले ही चीता ने मार लिया।

राजा बहुत दुखी हुए, और जंगल की सरदारी रामू को मिली।


5

बसंत की राका चारों ओर अनूठा दृश्य दिखा रही है। चन्द्रमा न मालूम किस लक्ष्य की ओर दौड़ा चला जा रहा है; कुछ पूछने से भी नहीं बताता। कुटज की कली का परिमल लिये पवन भी न मालूम कहाँ दौड़ रहा है; उसका भी कुछ समझ नहीं पड़ता। उसी तरह, चन्द्रप्रभा के तीर पर बैठी हुई कोल-कुमारी का कोमल कण्ठ-स्वर भी किस धुन में है-नहीं ज्ञात होता।

अकस्मात् गोली की आवाज ने उसे चौंका दिया। गाने के समय जो उसका मुख उद्वेग और करुणा से पूर्ण दिखाई पड़ता था, वह घृणा और क्रोध से रंजित हो गया, और वह उठकर पुच्छमर्दिता सिंहनी के समान तनकर खड़ी हो गई, और धीरे से कहा-यही समय है। ज्ञात होता है, राजा इस समय शिकार खेलने पुन: आ गये हैं-बस, वह अपने वस्त्र को ठीक करके कोल-बालक बन गई, और कमर में से एक चमचमाता हुआ छुरा निकालकर चूमा। वह चाँदनी में चमकने लगा। फिर वह कहने लगी-यद्यपि तुमने हीरा का रक्तपात कर लिया है, लेकिन पिता ने रामू से तुम्हें ले लिया है। अब तुम हमारे हाथ में हो, तुम्हें आज रामू का भी खून पीना होगा।

इतना कहकर वह गोली के शब्द की ओर लक्ष्य करके चली। देखा कि तहखाने में राजा साहब बैठे हैं। शेर को गोली लग चुकी है, और वह भाग गया है, उसका पता नहीं लग रहा है, रामू सरदार है, अतएव उसको खोजने के लिए आज्ञा हुई, वह शीघ्र ही सन्नद्ध हुआ। राजा ने कहा-कोई साथी लेते जाओ।

पहले तो उसने अस्वीकार किया, पर जब एक कोल युवक स्वयं साथ चलने को तैयार हुआ, तो वह नहीं भी न कर सका, और सीधे-जिधर शेर गया था, उसी ओर चला। कोल-बालक भी उसके पीछे हैं। वहाँ घाव से व्याकुल शेर चिंघ्घाड़ रहा है, इसने जाते ही ललकारा। उसने तत्काल ही निकलकर वार किया। रामू कम साहसी नहीं था, उसने उसके खुले मुँह में निर्भीक होकर बन्दूक की नाल डाल दी; पर उसके जरा-सा मुँह घुमा लेने से गोली चमड़ा छेदकर पार निकल गई, और शेर ने क्रुद्ध होकर दाँत से बंदूक की नाल दबा ली। अब दोनों एक दूसरे को ढकेलने लगे; पर कोल-बालक चुपचाप खड़ा है। रामू ने कहा-मार, अब देखता क्या है?

युवक-तुम इससे बहुत अच्छी तरह लड़ रहे हो।

रामू-मारता क्यों नहीं?

युवक-इसी तरह शायद हीरा से भी लड़ाई हुई थी, क्या तुम नहीं लड़ सकते?

रामू-कौन, चंदा! तुम हो? आह, शीघ्र ही मारो, नहीं तो अब यह सबल हो रहा है।

चंदा ने कहा-हाँ, लो मैं मारती हूँ, इसी छुरे से हमारे सामने तुमने हीरा को मारा था, यह वही छुरा है, यह तुझे दु:ख से निश्चय ही छुड़ावेगा-इतना कहकर चंदा ने रामू की बगल में छुरा उतार दिया। वह छटपटाया। इतने ही में शेर को मौका मिला, वह भी रामू पर टूट पड़ा और उसका इति कर आप भी वहीं गिर पड़ा।

चंदा ने अपना छुरा निकाल लिया, और उसको चाँदनी में रंगा हुआ देखने लगी, फिर खिलखिलाकर हँसी और कहा, -'दरद दिल काहि सुनाऊँ प्यारे!' फिर हँसकर कहा-हीरा! तुम देखते होगे, पर अब तो यह छुरा ही दिल की दाह सुनेगा। इतना कहकर अपनी छाती में उसे भोंक लिया और उसी जगह गिर गई, और कहने लगी......हीरा......हम......तुमसे तुमसे......मिले ही......

चन्द्रमा अपने मन्द प्रकाश में यह सब देख रहा था।



()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()




 


 

Hindi Kahani

हिंदी कहानी

Madan Mrinalini Jaishankar Prasad

मदन-मृणालिनी जयशंकर प्रसाद





विजया-दशमी का त्योहार समीप है, बालक लोग नित्य रामलीला होने से आनन्द में मग्न हैं।

हाथ में धनुष और तीर लिये हुए एक छोटा-सा बालक रामचन्द्र बनने की तैयारी में लगा हुआ है। चौदह वर्ष का बालक बहुत ही सरल और सुन्दर है।

खेलते-खेलते बालक को भोजन की याद आई। फिर कहाँ का राम बनना और कहाँ की रामलीला। चट धनुष फेंककर दौड़ता हुआ माता के पास जा पहुँचा और उस ममता-मोहमयी माता के गले से लिपटकर-माँ! खाने को दे, माँ! खाने को दे-कहता हुआ जननी के चित्त को आनन्दित करने लगा।

जननी बालक का मचलना देखकर प्रसन्न हो रही थी और थोड़ी देर तक बैठी रहकर और भी मचलना देखा चाहती थी। उसके यहाँ एक पड़ोसिन बैठी थी, अतएव वह एकाएक उठकर बालक को भोजन देने में असमर्थ थी। सहज ही असन्तुष्ट हो जाने वाली पड़ोस की स्त्रियों का सहज क्रोधमय स्वभाव किसी से छिपा न होगा। यदि वह तत्काल उठकर चली जाती, तो पड़ोसिन क्रुद्ध होती। अत: वह उठकर बालक को भोजन देने में आनाकानी करने लगी। बालक का मचलना और भी बढ़ चला। धीरे-धीरे वह क्रोधित हो गया, दौड़कर अपनी कमान उठा लाया; तीर चढ़ाकर पड़ोसिन को लक्ष्य किया और कहा-तू यहाँ से जा, नहीं तो मैं मारता हूँ।

दोनों स्त्रियाँ केवल हँसकर उसको मना करती रहीं। अकस्मात् वह तीर बालक के हाथ से छूट पड़ा और पड़ोसिन की गर्दन में कुछ धँस गया! अब क्या था, वह अर्जुन और अश्वत्थामा का पाशुपतास्त्र हो गया। बालक की माँ बहुत घबरा गयी, उसने अपने हाथ से तीर निकाला, उसके रक्त को धोया, बहुत कुछ ढाढ़स दिया। किन्तु घायल स्त्री का चिल्लाना-कराहना सहज में थमने वाला नहीं था।

बालक की माँ विधवा थी, कोई उसका रक्षक न था। जब उसका पति जीता था, तब तक उसका संसार अच्छी तरह चलता था; अब जो कुछ पूँजी बच रही थी, उसी में वह अपना समय बिताती थी। ज्यों-त्यों करके उसने चिर-संरक्षित धन में से पचीस रुपये उस घायल स्त्री को दिये।

वह स्त्री किसी से यह बात न कहने का वादा करके अपने घर गयी। परन्तु बालक का पता नहीं, वह डर के मारे घर से निकल किसी ओर भाग गया।

माता ने समझा कि पुत्र कहीं डर से छिपा होगा, शाम तक आ जायगा। धीरे-धीरे सन्ध्या-पर-सन्ध्या, सप्ताह-पर-सप्ताह, मास-पर-मास, बीतने लगे; परन्तु बालक का कहीं पता नहीं। शोक से माता का हृदय जर्जर हो गया, वह चारपाई पर लग गयी। चारपाई ने भी उसका ऐसा अनुराग देखकर उसे अपना लिया, और फिर वह उस पर से न उठ सकी। बालक को अब कौन पूछने वाला है!


-- --

कलकत्ता-महानगरी के विशाल भवनों तथा राजमार्गों को आश्चर्य से देखता हुआ एक बालक सुसज्जित भवन के सामने खड़ा है। महीनों कष्ट झेलता, राह चलता, थकता हुआ बालक यहाँ पहुँचा है।

बालक थोड़ी देर तक यही सोचता था कि अब मैं क्या करूँ, किससे अपने कष्ट की कथा कहूँ। इतने में वहाँ धोती-कमीज पहने हुए एक सभ्य बंगाली महाशय का आगमन हुआ।

उस बालक की चौड़ी हड्डी, सुडौल बदन और सुन्दर चेहरा देखकर बंगाली महाशय रुक गये और उसे एक विदेशी समझकर पूछने लगे।

तुम्हारा मकान कहाँ है?

ब...में।

तुम यहाँ कैसे आये?

भागकर।

नौकरी करोगे?

हाँ।

अच्छा, हमारे साथ चलो।

बालक ने सोचा कि सिवा काम के और क्या करना है, तो फिर इनके साथ ही उचित है। कहा-अच्छा, चलिये।

बंगाली महाशय उस बालक को घुमाते-फिराते एक मकान के द्वार पर पहुँचे। दरबान ने उठकर सलाम किया। वह बालक-सहित एक कमरे में पहुँचे, जहाँ एक नवयुवक बैठा हुआ कुछ लिख रहा था, सामने बहुत से कागज इधर-उधर बिखरे पड़े थे।

युवक ने बालक को देखकर पूछा-बाबूजी, यह बालक कौन है?

यह नौकरी करेगा, तुमको एक आदमी की जरूरत थी ही, सो इसको हम लिवा लाये हैं, अपने साथ रक्खो-बाबूजी यह कहकर घर के दूसरे भाग में चले गये थे।

युवक के कहने पर बालक भी अचकचाता हुआ बैठ गया। उनमें इस तरह बातें होने लगीं-

युवक-क्यों जी, तुम्हारा नाम क्या है?

बालक-(कुछ सोचकर) मदन।

युवक-नाम तो बड़ा अच्छा है। अच्छा, कहो, तुम क्या खाओगे? रसोई बनाना जानते हो?

बालक-रसोई बनाना तो नहीं जानते। हाँ, कच्ची-पक्की जैसी हो, बनाकर खा लेते हैं, किन्तु ..

अच्छा, संकोच करने की कोई जरूरत नहीं है-इतना कहकर युवक ने पुकारा-कोई है?

एक नौकर दौड़कर आया-हुजूर, क्या हुक्म है?

युवक ने कहा-इनको भोजन कराने के लिए ले जाओ।

भोजन के उपरान्त बालक युवक के पास आया। युवक ने एक घर दिखाकर कहा कि उस सामने की कोठरी में सोओ और उसे अपने रहने का स्थान समझो।

युवक की आज्ञा के अनुसार बालक उस कोठरी में गया, देखा तो एक साधारण-सी चौकी पड़ी है; एक घड़े में जल, लोटा और गिलास भी रक्खा हुआ है। वह चुपचाप चौकी पर लेट गया।

लेटने पर उसे बहुत-सी बातें याद आने लगीं, एक-एक करके उसे भावना के जाल में फँसाने लगीं। बाल्यावस्था के साथी, उनके साथ खेल-कूद, राम-रावण की लड़ाई, फिर उस विजया-दशमी के दिन की घटना, पड़ोसिन के अंग में तीर का धँस जाना, माता की व्याकुलता, और मार्ग के कष्ट को सोचते-सोचते उस भयातुर बालक की विचित्र दशा हो गयी।

मनुष्य की मिमियाई निकालने वाली द्वीप-निवासिनी जातियों की भयानक कहानियाँ, जिन्हें उसने बचपन में माता की गोद में पड़े-पड़े सुना था, उसे और भी डराने लगीं। अकस्मात् उसके मस्तिष्क को उद्वेग से भर देनेवाली यह बात भी समा गयी कि-ये लोग तो मुझे नौकर बनाने के लिए अपने यहाँ लाये थे, फिर इतने आराम से क्यों रक्खा है? हो-न-हो, वही टापूवाली बात है। बस, फिर कहाँ की नींद और कहाँ का सुख, करवटें बदलने लगा! मन में यही सोचता था कि यहाँ से किसी तरह भाग चलो।


-- --

परन्तु निद्रा भी कैसी प्यारी वस्तु है! घोर दु:ख के समय भी मनुष्य को यही सुख देती है। सब बातों से व्याकुल होने पर भी वह कुछ देर के लिये सो गया।

मदन उसी घर में रहने लगा। अब उसे उतनी घबराहट नहीं मालूम होती। अब वह निर्भय-सा हो गया है। किन्तु अभी तक यह बात कभी-कभी उसे उधेड़-बुन में लगा देती है कि ये लोग मुझसे इतना अच्छा बर्ताव क्यों करते हैं और क्यों इतना सुख देते हैं। पर इन सब बातों को वह उस समय भूल जाता है, जब 'मृणालिनी' उसकी रसोई बनवाने लगती है। देखो, रोटी जलती है, उसे उलट दो, दाल भी चला दो-इत्यादि बातें जब मृणालिनी के कोमल कण्ठ से वीणा की झंकार के समान सुनाई देती है, तब वह अपना दु:ख-माता का सोच-सब भूल जाता है।

मदन है तो अबोध, किन्तु संयुक्त प्रान्तवासी होने के कारण स्पृश्यास्पृश्य का उसे बहुत ही ध्यान रहता है। वह दूसरे का बनाया भोजन नहीं करता। अतएव मृणालिनी आकर उसे बताती है और भोजन के समय हवा भी करती है।

मृणालिनी गृहस्वामी की कन्या है। वह देवबाला-सी जान पड़ती है। बड़ी-बड़ी आँखें, उज्जवल कपोल, मनोहर अंगभंगी, गुल्फविलम्बित केश-कलाप उसे और भी सुन्दरी बनने में सहायता दे रहे हैं। अवस्था तेरह वर्ष की है; किन्तु वह बहुत गम्भीर है।

नित्य साथ होने से दोनों में अपूर्व भाव का उदय हुआ है। बालक का मुख जब आग की आँच से लाल तथा आँखें धुएँ के कारण आँसुओं से भर जाती हैं, तब बालिका आँखों में आँसू भर कर, रोष-पूर्वक पंखी फेंककर कहती है-लो जी, इससे काम लो, क्यों व्यर्थ परिश्रम करते हो? इतने दिन तुम्हें रसोई बनाते हुए, मगर बनाना न आया!

तब मदन आँच लगने के सारे दु:ख को भूल जाता। तब उसकी तृष्णा और बढ़ जाती; भोजन रहने पर भी भूख सताती है। और, सताया जाकर भी वह हँसने लगता है। मन-ही-मन सोचता, मृणालिनी! तुम बंग-महिला क्यों हुईं?

मदन के मन में यह बात क्यों उत्पन्न हुई? दोनों सुन्दर थे, दोनों ही किशोर थे, दोनों संसार से अनभिज्ञ थे, दोनों के हृदय में रक्त था-उच्छ्वास था-आवेग था-विकास था, दोनों के हृदय-सिन्धु में किसी अपूर्व चन्द्र का मधुर-उज्जवल प्रकाश पड़ता था, दोनों के हृदय-कानन में नन्दन-पारिजात खिला था!

-- --

जिस परिवार में बालक मदन पलता था, उसके मालिक हैं अमरनाथ बनर्जी। आपके नवयुवक पुत्र का नाम है किशोरनाथ बनर्जी, कन्या का नाम मृणालिनी और गृहिणी का नाम हीरामणि है। बम्बई और कलकत्ता, दोनों स्थानों में, आपकी दूकानें थीं, जिनमें बाहरी चीजों का क्रय-विक्रय होता था; विशेष काम मोती के बनिज का था। आपका आफिस सीलोन में था; वहॉँ से मोती की खरीद होती थी। आपकी कुछ जमीन भी वहॉँ थी। उससे आपकी बड़ी आय थी। आप प्राय: अपनी बम्बई की दूकान में और आपका परिवार कलकत्ते में रहता था। धन अपार था, किसी चीज की कमी न थी। तो भी आप एक प्रकार से चिन्तित थे।

संसार में कौन चिन्ताग्रस्त नहीं है? पशु-पक्षी, कीट-पतंग, चेतन और अचेतन, सभी को किसी प्रकार की चिन्ता है। जो योगी हैं, जिन्होंने सब कुछ त्याग दिया है, संसार जिनके वास्ते असार है, उन्होंने भी स्वीकार किया है। यदि वे आत्मचिन्तन न करें, तो उन्हें योगी कौन कहेगा?

किन्तु बनर्जी महाशय की चिन्ता का कारण क्या है? सो पति-पत्नी की इस बातचीत से ही विदित हो जायगा-

अमरनाथ-किशोर तो क्वाँरा ही रहा चाहता है। अभी तक उसकी शादी कहीं पक्की नहीं हुई।

हीरामणि-सीलोन में आपके व्यापार करने तथा रहने से समाज आपको दूसरी ही दृष्टि से देख रहा है।

अमरनाथ-ऐसे समाज की मुझे परवाह नहीं है। मैं तो केवल लडक़ी और लड़के का ब्याह अपनी जाति में करना चाहता था। क्या टापुओं में जाकर लोग पहले बनिज नहीं करते थे? मैंने कोई अन्य धर्म तो ग्रहण नहीं किया, फिर यह व्यर्थ का आडम्बर क्यों है? और, यदि, कोई खान-पान का दोष दे, तो क्या यहाँ पर तिलक कर पूजा करने वाले लोगों से होटल बचा हुआ है?

हीरामणि-फिर क्या कीजियेगा? समाज तो इस समय केवल उन्हीं बगला-भगतों को परम धार्मिक समझता है!

अमरनाथ-तो फिर अब मैं ऐसे समाज को दूर ही से हाथ जोड़ता हूँ।

हीरामणि-तो क्या ये लडक़ी-लड़के क्वांरे ही रहेंगे?

अमरनाथ-नहीं, अब हमारी यह इच्छा है कि तुम सबको लेकर उसी जगह चलें। यहाँ कई वर्ष रहते भी हुआ किन्तु कार्य सिद्ध होने की कुछ भी आशा नहीं है, तो फिर अपना व्यापार क्यों नष्ट होने दें? इसलिये, अब तुम सबको वहीं चलना होगा। न होगा तो ब्राह्म हो जायँगे, किन्तु यह उपेक्षा अब सही नहीं जाती।


-- --

मदन, मृणालिनी के संगम से बहुत ही प्रसन्न है। सरला मृणालिनी भी प्रफुल्लित है। किशोरनाथ भी उसे बहुत ही प्यार करता है, प्राय: उसी को साथ लेकर हवा खाने के लिए जाता है। दोनों में बहुत ही सौहार्द है। मदन भी बाहर किशोरनाथ के साथ और घर आने पर मृणालिनी की प्रेममयी वाणी से आप्यायित रहता है।

मदन का समय सुख से बीतने लगा। किन्तु बनर्जी महाशय के सपरिवार बाहर जाने की बातों ने एक बार उसके हृदय को उद्वेगपूर्ण बना दिया। वह सोचने लगा कि मेरा क्या परिणाम होगा, क्या मुझे भी चलने के लिए आज्ञा देंगे? और, यदि ये चलने के लिए कहेंगे, तो मैं क्या करूँगा? इनके साथ जाना ठीक होगा या नहीं?

इन सब बातों को वह सोचता ही था कि इतने में किशोरनाथ ने अकस्मात् आकर उसे चौंका दिया। उसने खड़े होकर पूछा-कहिये, आप लोग किस सोच-विचार में पड़े हुए हैं? कहाँ जाने का विचार है?

क्यों, क्या तुम न चलोगे?

कहाँ?

जहाँ हम लोग जायँ।

वही तो पूछता हूँ कि आप लोग कहाँ जायँगे?

सीलोन।

तो मुझसे भी आप वहाँ चलने के लिये कहते हैं?

इसमें तुम्हारी हानि ही क्या है?

(यज्ञोपवीत दिखाकर) इसकी ओर भी तो ध्यान कीजिये!

तो क्या समुद्र-यात्रा तुम नहीं कर सकते?

सुना है कि वहाँ जाने से धर्म नष्ट हो जाता है!

क्यों? जिस तरह तुम यहाँ भोजन बनाते हो, उसी तरह वहाँ भी बनाना।

जहाज पर भी चढऩा होगा!

उसमें हर्ज ही क्या है? लोग गंगासागर और जगन्नाथजी जाते समय जहाज पर नहीं चढ़ते?

मदन अब निरुत्तर हुआ; किन्तु उत्तर सोचने लगा। इतने ही में उधर से मृणालिनी आती हुई दिखायी पड़ी। मृणालिनी को देखते ही उसके विचाररूपी मोतियों को प्रेम-हंस ने चुग लिया और उसे उसकी बुद्धि और भी भ्रमपूर्ण जान पड़ने लगी।

मृणालिनी ने पूछा-क्यों मदन, तुम बाबा के साथ न चलोगे?

जिस तरह वीणा की झंकार से मस्त होकर मृग स्थिर हो जाता है, अथवा मनोहर वंशी की तान से झूमने लगता है, वैसे ही मृणालिनी के मधुर स्वर में मुग्ध मदन ने कह दिया-क्यों न चलूँगा।


-- --

सारा संसार घड़ी-घड़ी-भर पर, पल-पल-भर पर, नवीन-सा प्रतीत होता है और इससे उस विश्वयन्त्र को बनाने वाले स्वतन्त्र की बड़ी भारी निपुणता का पता लगता है; क्योंकि नवीनता की यदि रचना न होती, तो मानव-समाज को यह संसार और ही तरह का भासित होता। फिर उसे किसी वस्तु की चाह न होती, इतनी तरह के व्यावहारिक पदार्थों की कुछ भी आवश्यकता न होती। समाज, राज्य और धर्म के विशेष परिवर्तन-रूपी पट में इसकी मनोहर मूर्ति और भी सलोनी देख पड़ती है। मनुष्य बहुप्रेमी क्यों हो जाता है? मानवों की प्रवृत्ति क्यों दिन-रात बदला करती है? नगर-निवासियों को पहाड़ी घाटियाँ सौन्दर्यमयी प्रतीत होती हैं? विदेश-पर्यटन में क्यों मनोरंजन होता है? मनुष्य क्यों उत्साहित होता है? इत्यादि प्रश्नों के उत्तर में केवल यही कहा जा सकता है कि नवीनता की प्रेरणा!

नवीनता वास्तव में ऐसी ही वस्तु है कि जिससे मदन को भारत से सीलोन तक पहुँच जाना कुछ कष्टकर न हुआ।

विशाल सागर के वक्षस्थल पर दानव-राज की तरह वह जहाज अपनी चाल और उसकी शक्ति दिखा रहा है। उसे देखकर मदन को द्रौपदी और पाण्डवों को लादे हुए घटोत्कच का ध्यान आता था।

उत्ताल तरंगों की कल्लोल-माला अपना अनुपम दृश्य दिखा रही है। चारों ओर जल-ही-जल है, चन्द्रमा अपने पिता की गोद में क्रीड़ा करता हुआ आनन्द दे रहा है। अनन्त सागर में अनन्त आकाश-मण्डल के असंख्य नक्षत्र अपने प्रतिबिम्ब दिखा रहे हैं।

मदन तीन-चार बरस में युवक हो गया है। उसकी भावुकता बढ़ गयी थी। वह समुद्र का सुन्दर दृश्य देख रहा था। अकस्मात् एक प्रकाश दिखायी देने लगा। वह उसी को देखने लगा।

उस मनोहर अरुण का प्रकाश नील जल को भी आरक्तिम बनाने की चेष्टा करने लगा। चंचल तरंगों की लहरियाँ सूर्य की किरणों से क्रीड़ा करने लगीं। मदन उस अनन्त समुद्र को देखकर डरा नहीं किन्तु अपने प्रेममय हृदय का एक जोड़ा देखकर और भी प्रसन्न हुआ वह निर्भीक हृदय से उन लोगों के साथ सीलोन पहुँचा।


-- --

अमरनाथ के विशाल भवन में रहने से मदन को बड़ी ही प्रसन्नता है। मृणालिनी और मदन उसी प्रकार से मिलते-जुलते हैं, जैसे कलकत्ते में मिलते-जुलते थे। लवण-महासमुद्र की महिमा दोनों ही को मनोहर जान पड़ती है। प्रशान्त महासागर के तट की सन्ध्या दोनों के नेत्रों को ध्यान में लगा देती है। डूबते हुए सूर्यदेव देव-तुल्य हृदयों को संसार की गति दिखलाते हैं, अपने राग की आभा उन प्रभातमय हृदयों पर डालते हैं, दोनों ही सागर-तट पर खड़े सिन्धु की तरंग-भंगियों को देखते हैं; फिर भी दोनों ही दोनों की मनोहर अंग-भंगियों में भूले हुए हैं।

महासमुद्र के तट पर बहुत समय तक खड़े होकर मृणालिनी और मदन उस अनन्त का सौन्दर्य देखते थे। अकस्मात् बैण्ड का सुरीला राग सुनाई दिया, जो कि सिन्धु गर्जन को भी भेद कर निकलता था।

मदन, मृणालिनी-दोनों एकाग्रचित् हो उस ओजस्विनी कविवाणी को जातीय संगीत में सुनने लगे। किन्तु वहाँ कुछ दिखाई न दिया। चकित होकर वे सुन रहे थे। प्रबल वायु भी उत्ताल तरंगों को हिलाकर उनको डराता हुआ उसी की प्रतिध्वनि करता था। मन्त्र-मुग्ध के समान सिन्धु भी अपनी तरंगों के घात-प्रतिघात पर चिढक़र उन्हीं शब्दों को दुहराता है। समुद्र को स्वीकार करते देख कर अनन्त आकाश भी उसी की प्रतिध्वनि करता है।

धीरे-धीरे विशाल सागर के हृदय को फाड़ता हुआ एक जंगी जहाज दिखाई पड़ा। मदन और मृणालिनी, दोनों ही, स्थिर दृष्टि से उसकी ओर देखते रहे। जहाज अपनी जगह पर ठहरा और इधर पोर्ट-संरक्षक ने उस पर सैनिकों के उतरने के लिए यथोचित प्रबन्ध किया।

समुद्र की गम्भीरता, सन्ध्या की निस्तब्धता और बैण्ड के सुरीले राग ने दोनों के हृदयों को सम्मोहित कर लिया, और वे इन्हीं सब बातों की चर्चा करने लग गये।

मदन ने कहा-मृणालिनी, यह बाजा कैसा सुरीला है!

मृणालिनी का ध्यान टूटा। सहसा उसके मुख से निकला-तुम्हारे कल-कण्ठ से अधिक नहीं है।

इसी तरह दिन बीतने लगे। मदन को कुछ काम नहीं करना पड़ता था। जब कभी उसका जी चाहता, तब वह महासागर के तट पर जाकर प्रकृति की सुषमा को निरखता और उसी में आनन्दित होता था। वह प्राय: गोता लगाकर मोती निकालने वालों की ओर देखा करता और मन-ही-मन उनकी प्रशंसा किया करता था।

मदन का मालिक भी उसको कभी कोई काम करने के लिये आज्ञा नहीं देता था। वह उसे बैठा देखकर मृणालिनी के साथ घूमने के लिए जाने की आज्ञा देता था। उसका स्वभाव ही ऐसा सरल था कि सभी सहवासी उससे प्रसन्न रहते थे, वह भी उनसे खूब हिल-मिलकर रहता था।


-- --

संसार भी बड़ा प्रपञ्चमय यन्त्र है। वह अपनी मनोहरता पर आप ही मुग्ध रहता है।

एक एकान्त कमरे में बैठे हुए मृणालिनी और मदन ताश खेल रहे हैं; दोनों जी-जान से अपने-अपने जीतने की कोशिश कर रहे हैं।

इतने ही में सहसा अमरनाथ बाबू उस कोठरी में आये। उनके मुख-मण्डल पर क्रोध झलकता था। वह आते ही बोले-क्यों रे दुष्ट! तू बालिका को फुसला रहा है?

मदन तो सुनकर सन्नाटे में आ गया। उसने नम्रता के साथ होकर पूछा-क्यों पिता, मैंने क्या किया?

अमरनाथ-अभी पूछता ही है! तू इस लडक़ी को बहका कर अपने साथ लेकर दूसरी जगह भागना चाहता है?

मदन-बाबूजी, यह आप क्या कह रहे हैं? मुझ पर आप इतना अविश्वास कर रहे हैं? किसी दुष्ट ने आपसे झूठी बात कही है।

अमरनाथ-अच्छा, तुम यहाँ से चलो और अब से तुम दूसरी कोठरी में रहा करो। मृणालिनी को और तुमको अगर हम एक जगह अब देख पावेंगे तो समझ रक्खो-समुद्र के गर्भ में ही तुमको स्थान मिलेगा।

मदन, अमरनाथ बाबू के पीछे चला। मृणालिनी मुरझा गयी, मदन के ऊपर अपवाद लगाना उसके सुकुमार हृदय से सहा नहीं गया। वह नव-कुसुमित पददलित आश्रय-विहीन माधवी-लता के समान पृथ्वी पर गिर पड़ी और लोट-लोटकर रोने लगी।

मृणालिनी ने दरवाजा भीतर से बन्द कर लिया और वहीं लोटती हुई आँसुओं से हृदय की जलन को बुझाने लगी।

कई घण्टे के बाद जब उसकी माँ ने जाकर किवाड़ खुलवाये, उस समय उसकी रेशमी साड़ी का आँचल भींगा हुआ, उसका मुख सूखा हुआ और आँखें लाल-लाल हो आयी थीं। वास्तव में वह मदन के लिये रोई थी। इसी से उसकी यह दशा हो गयी। सचमुच संसार बड़ा प्रपञ्चमय है।


-- --

दूसरे घर में रहने से मदन बहुत घबड़ाने लगा। वह अपना मन बहलाने के लिए कभी-कभी समुद्र-तट पर बैठकर गद्गद हो सूर्य-भगवान का पश्चिम दिशा से मिलना देखा करता था; और जब तक वह अस्त न हो जाते थे, तब तक बराबर टकटकी लगाये देखता था। वह अपने चित्त में अनेक कल्पना की लहरें उठाकर समुद्र और अपने हृदय से तुलना भी किया करता था।

मदन का अब इस संसार में कोई नहीं है। माता भारत में जीती है या मर गयी-यह भी बेचारे को नहीं मालूम! संसार की मनोहरता, आशा की भूमि, मदन के जीवन-स्रोत का जल, मदन के हृदय-कानन का अपूर्व पारिजात, मदन के हृदय-सरोवर की मनोहर मृणालिनी भी अब उससे अलग कर दी गई है। जननी, जन्मभूमि, प्रिय, कोई भी तो मदन के पास नहीं है? इसी से उसका हृदय आलोड़ित होने लगा, और वह अनाथ बालक ईष्र्या से भरकर अपने अपमान की ओर ध्यान देने लगा। उसको भली-भाँति विश्वास हो गया कि इस परिवार के साथ रहना ठीक नहीं है। जब इन्होंने मेरा तिरस्कार किया, तो अब इन्हीं के आश्रित होकर क्यों रहूँ?

यह सोचकर उसने अपने चित्त में कुछ निश्चय किया और कपड़े पहनकर समुद्र की ओर घूमने के लिए चल पड़ा। राह में वह अपनी उधेड़बुन में चला जाता था कि किसी ने पीठ पर हाथ रक्खा। मदन ने पीछे देखकर कहा-आह, आप हैं किशोर बाबू?

किशोरनाथ ने हँसकर कहा-कहाँ बगदादी-ऊँट की तरह भागे जाते हो?

कहीं तो नहीं, यहीं समुद्र की ओर जा रहा हूँ।

समुद्र की ओर क्यों?

शरण माँगने के लिए।

यह बात मदन ने डबडबायी हुई आँखों से किशोर की ओर देखकर कही।

किशोर ने रुमाल से मदन के आँसू पोंछते-पोंछते कहा-मदन, हम जानते हैं कि उस दिन बाबूजी ने जो तिरस्कार किया था, उससे तुमको बहुत दु:ख है। मगर सोचो तो, इसमें दोष किसका है? यदि तुम उस रोज मृणालिनी को बहकाने का उद्योग न करते, तो बाबूजी तुम पर क्यों अप्रसन्न होते?

अब तो मदन से नहीं रहा गया। उसने क्रोध से कहा-कौन दुष्ट उस देवबाला पर झूठा अपवाद लगाता है? और मैंने उसे बहकाया है? इस बात का कौन साक्षी है? किशोर बाबू! आप लोग मालिक हैं, जो चाहें सो कहिये। आपने पालन किया है, इसलिए, यदि आप आज्ञा दें तो मदन समुद्र में भी कूद पड़ने के लिए तैयार है, मगर अपवाद और अपमान से बचाये रहिये।

कहते-कहते मदन का मुख क्रोध से लाल हो आया, आँखों में आँसू भर आये, उसके आकार से उस समय दृढ़ प्रतिज्ञा झलकती थी।

किशोर ने कहा-इस बारे में विशेष हम कुछ नहीं जानते, केवल माँ के मुख से सुना था कि जमादार ने बाबूजी से तुम्हारी निन्दा की है और इसी से वह तुम पर बिगड़े हैं।

मदन ने कहा-आप लोग अपनी बाबूगीरी में भूले रहते हैं और ये बेईमान आपका सब माल खाते हैं। मैंने उस जमादार को मोती निकालनेवालों के हाथ मोती बेचते देखा; मैंने पूछा-क्यों, तुमने मोती कहाँ पाया? तब उसने गिड़गिड़ाकर, पैर पकड़कर, मुझसे कहा-बाबूजी से न कहियेगा। मैंने उसे डाँटकर फिर ऐसा काम न करने के लिए कहकर छोड़ दिया, आप लोगों से नहीं कहा। इसी कारण वह ऐसी चाल चलता है और आप लोगों ने भी बिना सोचे-समझे उसकी बात पर विश्वास कर लिया है।

यों कहते-कहते मदन उठ खड़ा हो गया। किशोर ने उसका हाथ पकड़कर बैठाया और आप भी बैठकर कहने लगा-मदन, घबड़ाओ मत, थोड़ी देर बैठकर हमारी बात सुनो। हम उसको दण्ड देंगे और तुम्हारा अपवाद भी मिटावेंगे। मगर हम एक बात जो कहते हैं, उसे ध्यान देकर सुनो। मृणालिनी अब बालिका नहीं है, और तुम भी बालक नहीं हो। तुम्हारे-उसके जैसे भाव हैं, सो भी हमसे छिपे नहीं हैं। फिर ऐसी जगह पर हम तो यही चाहते हैं कि तुम्हारा और मृणालिनी का ब्याह हो जाय।


-- --

मदन ब्याह का नाम सुनकर चौंक पड़ा, और मन में सोचने लगा कि यह कैसी बात? कहाँ हम युक्तप्रान्त-निवासी अन्यजातीय, और कहाँ ये बंगाली ब्राह्मण, फिर ब्याह किस तरह हो सकता है! हो-न-हो ये मुझे भुलावा देते हैं। क्या मैं इनके साथ अपना धर्म नष्ट करूँगा? क्या इसी कारण ये लोग मुझे इतना सुख देते हैं और खूब खुलकर मृणालिनी के साथ घूमने-फिरने और रहने देते थे? मृणालिनी को मैं जी से चाहता हूँ, और जहाँ तक देखता हूँ, मृणालिनी भी मुझसे कपट-प्रेम नहीं करती। किन्तु यह ब्याह नहीं हो सकता क्योंकि इसमें धर्म और अधर्म दोनों का डर है। धर्म का निर्णय करने की मुझमें शक्ति नहीं है। मैंने ऐसा ब्याह होते न देखा है और न सुना है, फिर कैसे यह ब्याह करूँ?

इन्हीं बातों को सोचते-सोचते बहुत देर हो गयी। जब मदन को यह सुन पड़ा कि 'अच्छा, सोचकर हमसे कहना', तब वह चौंक पड़ा और देखा तो किशोरनाथ जा रहा है।

मदन ने किशोरनाथ के जाने पर कुछ विशेष ध्यान नहीं दिया और फिर अपने विचारों के सागर में मग्न हो गया।

फिर मृणालिनी का ध्यान आया, हृदय धड़कने लगा। मदन की चिन्ता-शक्ति का वेग रुक गया और उसके मन में यही समाया कि ऐसे धर्म को मैं दूर ही से हाथ जोड़ता हूँ! मृणालिनी-प्रेम-प्रतिमा मृणालिनी-को मैं नहीं छोड़ सकता।

मदन इसी मन्तव्य को स्थिर कर, समुद्र की ओर मुख कर, उसकी गम्भीरता निहारने लगा।

वहाँ पर कुछ धनी लोग पैसा फेंककर उसे समुद्र से ले आने का तमाशा देख रहे थे। मदन ने सोचा कि प्रेमियों का जीवन 'प्रेम' है और सज्जनों का अमोघ धन 'धर्म' है। ये लोग अपने प्रेम-जीवन की परवाह न कर धर्म-धन को बटोरते हैं और फिर इनके पास जीवन और धन दोनों चीजें दिखाई पड़ती हैं। तो क्या मनुष्य इनका अनुकरण नहीं कर सकता? अवश्य कर सकता है। प्रेम ऐसी तुच्छ वस्तु नहीं है कि धर्म को हटाकर उस स्थान पर आप बैठे। प्रेम महान है, प्रेम उदार है। प्रेमियों को भी वह उदार और महान बनाता है। प्रेम का मुख्य अर्थ है 'आत्मत्याग'। तो क्या मृणालिनी से ब्याह कर लेना ही प्रेम में गिना जायेगा? नहीं-नहीं, वह घोर स्वार्थ है। मृणालिनी को मैं जन्म-भर प्रेम से हृदय-मन्दिर में बिठाकर पूजूँगा, उसकी सरल प्रतिमा को पंङ्क में न लपेटूँगा। परन्तु ये लोग जैसा बर्ताव करते हैं, उससे सम्भव है कि मेरे विचार पलट जायँ। इसलिए अब इन लोगों से दूर रहना ही उचित है।

मदन इन्हीं बातों को सोचता हुआ लौट आया, और जो अपना मासिक वेतन जमा किया था वह-तथा कुछ कपड़े आदि आवश्यक सामान लेकर वहाँ से चला गया। जाते समय उसने एक पत्र लिखकर वहीं छोड़ दिया।

जब बहुत देर तक लोगों ने मदन को नहीं देखा, तब चिन्तित हुए। खोज करने से उनको मदन का पत्र मिला, जिसे किशोरनाथ ने पढ़ा और पढक़र उसका मर्म पिता को समझा दिया।

पत्र का भाव समझते ही उनकी सब आशा निर्मूल हो गयी। उन्होंने कहा-किशोर, देखो, हमने सोचा था कि मृणालिनी किसी कुलीन हिन्दू को समर्पित हो, परन्तु वह नहीं हुआ। इतना व्यय और परिश्रम, जो मदन के लिए किया गया, सब व्यर्थ हुआ। अब वह कभी मृणालिनी से ब्याह नहीं करेगा, जैसा कि उसके पत्र से विदित होता है।

आपके उस व्यवहार ने उसे और भी भडक़ा दिया। अब वह कभी ब्याह न करेगा।

मृणालिनी का क्या होगा?

जो उसके भाग्य में है!

क्या जाते समय मदन ने मृणालिनी से भी भेंट नहीं की?

पूछने से मालूम होगा।

इतना कहकर किशोर मृणालिनी के पास गया। मदन उससे भी नहीं मिला था। किशोर ने आकर पिता से सब हाल कह दिया।

अमरनाथ बहुत ही शोकग्रस्त हुए। बस, उसी दिन से उनकी चिन्ता बढऩे लगी। क्रमश: वह नित्य ही मद्य-सेवन करने लगे। वह तो प्राय: अपनी चिन्ता दूर करने के लिए मद्य-पान करते थे, किन्तु उसका फल उलटा हुआ-उनकी दशा और भी बुरी हो चली, यहाँ तक कि वह सब समय पान करने लगे, काम-काज देखना-भालना छोड़ दिया।

नवयुवक 'किशोर' बहुत चिन्तित हुआ, किन्तु वह धैर्य के साथ सांसारिक कष्ट सहने लगा।

मदन के चले जाने से मृणालिनी को बड़ा कष्ट हुआ। उसे यह बात और भी खटकती थी कि मदन जाते समय उससे क्यों नहीं मिला। वह यह नहीं समझती थी कि मदन यदि जाते समय उससे मिलता, तो जा नहीं सकता था।

मृणालिनी बहुत विरक्त हो गयी। संसार उसे सूना दिखाई देने लगा। किन्तु वह क्या करे? उसे अपनी मानसिक व्यथा सहनी ही पड़ी।


-- --

मदन ने अपने एक मित्र के यहाँ जाकर डेरा डाला। वह भी मोती का व्यापार करता था। बहुत सोचने-विचारने के उपरान्त उसने भी मोती का ही व्यवसाय करना निश्चित किया।

मदन नित्य सन्ध्या के समय, मोती के बाजार में जा, मछुए लोग जो अपने मेहनताने में मिली हुई मोतियों की सीपियाँ बेचते थे-उनको खरीदने लगा; क्योंकि इसमें थोड़ी पूँजी से अच्छी तरह काम चल सकता था। ईश्वर की कृपा से उसको नित्य विशेष लाभ होने लगा।

संसार में मनुष्य की अवस्था सदा बदलती रहती है। वही मदन, जो तिरस्कार पाकर दासत्व छोड़ने पर लक्ष्य-भ्रष्ट हो गया था, अब एक प्रसिद्ध व्यापारी बन गया।

मदन इस समय सम्पन्न हो गया। उसके यहाँ अच्छे-अच्छे लोग मिलने-जुलने आने लगे। उसने नदी के किनारे एक बहुत सुन्दर बँगला बनवा लिया है; उसके चारों ओर सुन्दर बगीचा भी है। व्यापारी लोग उत्सव के अवसरों पर उसको निमन्त्रण देते हैं; वह भी अपने यहाँ कभी-कभी उन लोगों को निमन्त्रित करता है। संसार की दृष्टि में वह बहुत सुखी था, यहाँ तक कि बहुत लोग उससे डाह करने लगे। सचमुच संसार बड़ा आडम्बर-प्रिय है!


-- --

मदन सब प्रकार से शारीरिक सुख भोग करता था; पर उसके चित्त-पट पर किसी रमणी की मलिन छाया निरन्तर अंकित रहती थी; जो उसे कभी-कभी बहुत कष्ट पहुँचाती थी। प्राय: वह उसे विस्मृति के जल से धो डालना चाहता था। यद्यपि वह चित्र किसी साधारण कारीगर का अंकित किया हुआ नहीं था कि एकदम लुप्त हो जाय, तथापि वह बराबर उसे मिटा डालने की ही चेष्टा करता था।

अकस्मात् एक दिन, जब सूर्य की किरणें सुवर्ण-सी सु-वर्ण आभा धारण किए हुई थीं, नदी का जल मौज में बह रहा था, उस समय मदन किनारे खड़ा हुआ स्थिर भाव से नदी की शोभा निहार रहा था। उसको वहाँ कई-एक सुसज्जित जलयान देख पड़े। उसका चित्त, न जाने क्यों उत्कण्ठित हुआ। अनुसन्धान करने पर पता लगा कि वहाँ वार्षिक जल-विहार का उत्सव होता है, उसी में लोग जा रहे हैं।

मदन के चित्त में भी उत्सव देखने की आकांक्षा हुई। वह भी अपनी नाव पर चढक़र उसी ओर चला। कल्लोलिनी की कल्लोलों में हिलती हुई वह छोटी-सी सुसज्जित तरी चल दी।

मदन उस स्थान पर पहुँचा, जहाँ नावों का जमाव था। सैकड़ों बजरे और नौकाएँ अपने नीले-पीले, हरे-लाल निशान उड़ाती हुई इधर-उधर घूम रही हैं। उन पर बैठे हुए मित्र लोग आपस में आमोद-प्रमोद कर रहे हैं। कामिनियाँ अपने मणिमय अलंकारों की प्रभा से उस उत्सव को आलोकमय किये हुई हैं।

मदन भी अपनी नाव पर बैठा हुआ एकटक इस उत्सव को देख रहा है। उसकी आँखें जैसे किसी को खोज रही हैं। धीरे-धीरे सन्ध्या हो गयी। क्रमश: एक, दो, तीन तारे दिखाई दिये। साथ ही, पूर्व की तरफ, ऊपर को उठते हुए गुब्बारे की तरह चंद्रबिम्ब दिखाई पड़ा। लोगों के नेत्रों में आनन्द का उल्लास छा गया। इधर दीपक जल गये। मधुर संगीत, शून्य की निस्तब्धता में, और भी गूँजने लगा। रात के साथ ही आमोद-प्रमोद की मात्रा बढ़ी।

परन्तु मदन के हृदय में सन्नाटा छाया हुआ है। उत्सव के बाहर वह अपनी नौका को धीरे-धीरे चला रहा है। अकस्मात् कोलाहल सुनाई पड़ा, वह चौंककर उधर देखने लगा। उसी समय कोई चार-पाँच हाथ दूर एक काली-सी चीज दिखाई दी। अस्त हो रहे चन्द्रमा का प्रकाश पड़ने से कुछ वस्त्र भी दिखाई देने लगा। वह बिना कुछ सोचे-समझे ही जल में कूद पड़ा और उसी वस्तु के साथ बह चला।

ऊषा की आभा पूर्व में दिखाई पड़ रही है। चन्द्रमा की मलिन ज्योति तारागण को भी मलिन कर रही है।

तरंगों से शीतल दक्षिण-पवन धीरे-धीरे संसार को निद्रा से जगा रहा है। पक्षी भी कभी-कभी बोल उठते हैं।

निर्जन नदी-तट में एक नाव बँधी है, और बाहर एक सुकुमारी सुन्दरी का शरीर अचेत अवस्था में पड़ा हुआ है। एक युवक सामने बैठा हुआ उसे होश में लाने का उद्योग कर रहा है। दक्षिण-पवन भी उसे इस शुभ काम में बहुत सहायता दे रहा है।

सूर्य की पहली किरण का स्पर्श पाते ही सुन्दरी के नेत्र-कमल धीरे-धीरे विकसित होने लगे। युवक ने ईश्वर को धन्यवाद दिया और झुककर उस कामिनी से पूछा-मृणालिनी, अब कैसी हो?

मृणालिनी ने नेत्र खोलकर देखा। उसके मुख-मण्डल पर हर्ष के चिह्न दिखाई पड़े। उसने कहा-प्यारे मदन, अब अच्छी हूँ!

प्रणय का भी वेग कैसा प्रबल है! यह किसी महासागर की प्रचण्ड आँधी से कम प्रबलता नहीं रखता। इसके झोंके में मनुष्य की जीवन-नौका असीम तरंगों से घिर कर प्राय: कूल को नहीं पाती। अलौकिक आलोकमय अन्धकार में प्रणयी अपनी प्रणय-तरी पर आरोहण कर उसी आनन्द के महासागर में घूमना पसन्द करता है, कूल की ओर जाने की इच्छा भी नहीं करता।

इस समय मदन और मृणालिनी दोनों की आँखों से आँसुओं की धारा धीरे-धीरे बह रही है। चंचलता का नाम भी नहीं है। कुछ बल आने पर दोनों उस नाव में जा बैठे।

मदन ने मल्लाहों को पास के गाँव से दूध या और कुछ भोजन की वस्तु लाने के लिए भेजा। फिर दोनों ने बिछुड़ने के उपरान्त की सब कथा परस्पर कह सुनाई।

मृणालिनी कहने लगी-भैया किशोरनाथ से मैं तुम्हारा सब हाल सुना करती थी। पर वह कहा करते थे कि तुमसे मिलने में उनको संकोच होता हैं। इसका कारण उन्होंने कुछ नहीं बतलाया। मैं भी हृदय पर पत्थर रखकर तुम्हारे प्रणय को आज तक स्मरण कर रही हूँ।

मदन ने बात टालकर पूछा-मृणालिनी, तुम जल में कैसे गिरीं?

मृणालिनी ने कहा-मुझे बहुत उदास देख भैया ने कहा, चलो तुम्हें एक तमाशा दिखलावें, सो मैं भी आज यहाँ मेला देखने आयी। कुछ कोलाहल सुनकर मैं नाव पर खड़ी हो देखने लगी। दो नाववालों में झगड़ा हो रहा था। उन्हीं के झगड़े में हाथापाई में नाव हिल गयी और मैं गिर पड़ी। फिर क्या हुआ, सो मैं कुछ नहीं जानती।

इतने में दूर से एक नाव आती हुई दिखायी पड़ी, उस पर किशोरनाथ था। उसने मृणालिनी को देखकर बहुत हर्ष प्रकट किया, और सब लोग मिलकर बहुत आनन्दित हुए।

बहुत कुछ बातचीत होने के उपरान्त मृणालिनी और किशोर दोनों ने मदन के घर चलना स्वीकार किया। नावें नदी-तट पर स्थित मदन के घर की ओर बढ़ीं। उस समय मदन को एक दूसरी ही चिन्ता थी।

भोजन के उपरान्त किशोरनाथ ने कहा-मदन, हम अब भी तुमको छोटा भाई ही समझते हैं; पर तुम शायद हमसे कुछ रुष्ट हो गये हो।

मदन ने कहा-भैया, कुछ नहीं। इस दास से जो कुछ ढिठाई हुई हो, उसे क्षमा करना, मैं तो आपका वही मदन हूँ।

इसी तरह की बहुत-सी बातें होती रहीं, और फिर दूसरे दिन किशोरनाथ मृणालिनी को साथ लेकर अपने घर गया।


-- --

अमरनाथ बाबू की अवस्था बड़ी शोचनीय है। वह एक प्रकार से मद्य के नशे में चूर रहते हैं। काम-काज देखना सब छोड़ दिया है। अकेला किशोरनाथ काम-काज सँभालने के लिए तत्पर हुआ, पर उसके व्यापार की दशा अत्यन्त शोचनीय होती गयी, और उसके पिता का स्वास्थ्य भी बिगड़ चला। क्रमश: उसको चारों ओर अन्धकार दिखाई देने लगा।

संसार की कैसी विलक्षण गति है! जो बाबू अमरनाथ एक समय सारे सीलोन में प्रसिद्ध व्यापारी गिने जाते थे, और व्यापारी लोग जिनसे सलाह लेने के लिए तरसते थे, वही अमरनाथ इस समय कैसी अवस्था में हैं! कोई उनसे मिलने भी नहीं आता!

किशोरनाथ एक दिन अपने आफिस में बैठा कार्य देख रहा था। अकस्मात् मृणालिनी भी उसी स्थान में आ गयी और एक कुर्सी खींचकर बैठ गयी। उसने किशोर से कहा-क्यों भैया, पिताजी की कैसी अवस्था है? काम-काज की भी दशा अच्छी नहीं है, तुम भी चिन्ता से व्याकुल रहते हो, यह क्या है?

किशोरनाथ-बहन कुछ न पूछो, पिताजी की अवस्था तो तुम देख ही रही हो। काम-काज की अवस्था भी अत्यन्त शोचनीय हो रही है। पचास लाख रुपये के लगभग बाजार का देना है; और आफिस का रुपया सब बाजार में फँस गया है, जो कि काम देखे-भाले बिना पिताजी की अस्वस्थता के कारण दब-सा गया है। इसी सोच में बैठा हुआ हूँ कि ईश्वर क्या करेंगे!

मृणालिनी भयातुर हो गयी। उसके नेत्रों से आँसुओं की धारा बहने लगी। किशोर उसे समझाने लगा; फिर बोला-केवल एक ईमानदार कर्मचारी अगर काम-काज की देख-भाल किया करता, तो यह अवस्था न होती। आज यदि मदन होता, तो हम लोगों की यह दशा न होती।

मदन का नाम सुनते ही मृणालिनी कुछ विवर्ण हो गयी और उसकी आँखों में आँसू भर आये। इतने में दरबान ने आकर कहा-सरकार, एक रजिस्ट्री चिठ्ठी मृणालिनी देवी के नाम से आयी है, डाकिया बाहर खड़ा है।

किशोर ने कहा-बुला लाओ।

किशोर ने वह रजिस्ट्री लेकर खोली। उसमें एक पत्र और एक स्टाम्प का कागज था। देखकर किशोर ने मृणालिनी के आगे फेंक दिया। मृणालिनी ने फिर वह पत्र किशोर के हाथ में देकर पढऩे के लिये कहा। किशोर पढऩे लगा।

मृणालिनी!

आज मैं तुमको पत्र लिख रहा हूँ। आशा है कि तुम इसे ध्यान देकर पढ़ोगी। मैं एक अनजाने स्थान का रहनेवाला कंगाल के भेष में तुमसे मिला और तुम्हारे परिवार में पालित हुआ। तुम्हारे पिता ने मुझे आश्रय दिया, और मैं सुख से तुम्हारा मुख देखकर दिन बिताने लगा। पर दैव को वह भी ठीक न जँचा! अच्छा, जैसी उसकी इच्छा! पर मैं तुम्हारे परिवार को सदा स्नेह की दृष्टि से देखता हूँ। बाबू अमरनाथ के कहने-सुनने का मुझे कुछ ध्यान भी नहीं है, मैं उसे आशीर्वाद समझता हूँ। मेरे चित्त में उसका तनिक भी ध्यान नहीं है, पर केवल पश्चात्ताप यह है कि मैं उनसे बिना कहे-सुने चला आया। अच्छा, इसके लिए उनसे क्षमा माँग लेना और भाई किशोरनाथ से भी मेरा यथोचित अभिवादन कह देना।

अब कुछ आवश्यक बातें मैं लिखता हूँ, उन्हें ध्यान से पढ़ो। जहाँ तक सम्भव है, उनके करने में तुम आगा-पीछा न करोगी-यह मुझे विश्वास है। मुझे तुम्हारे परिवार की दशा अच्छी तरह विदित है, मैं उसे लिखकर तुम्हारा दु:ख नहीं बढ़ाना चाहता। सुनो, यह एक 'बिल' है जिसमें मैंने अपनी सब सीलोन की सम्पत्ति तुम्हारे नाम लिख दी है। वह तुम्हारी ही है, उसे लेने में तुमको कुछ संकोच न करना चाहिये। वह सब तुम्हारे ही रुपये का लाभ है। जो धन मैं वेतन में पाता था, वही मूल कारण है। अस्तु, यह मूलधन, लाभ और ब्याज-सहित, तुमको लौटा दिया जाता है। इसे अवश्य स्वीकार करना, और स्वीकार करो या न करो, अब सिवा तुम्हारे इसका स्वामी कौन है? क्योंकि मैं भारतवर्ष से जिस रूप में आया था, उसी रूप में लौटा जा रहा हूँ। मैं इस पत्र को लिखकर तब भेजता हूँ, जब घर से निकलकर जहाज को रवाना हो चुका हूँ। अब तुमसे भेंट भी नहीं हो सकती। तुम यदि आओ भी, तो उस समय मैं जहाज पर होऊँगा। तुमसे मेरी केवल यही प्रार्थना है कि 'तुम मुझे भूल जाना'।-मदन

यह पत्र पढ़ते ही मृणालिनी की और किशोरनाथ की अवस्था दूसरी ही हो गयी। मृणालिनी ने कातर स्वर से कहा-भैया, क्या समुद्र-तट तक चल सकते हो?

किशोरनाथ ने खड़े होकर कहा-अवश्य!

बस, तुरन्त ही एक गाड़ी पर सवार होकर दोनों समुद्र-तट की ओर चले। ज्योंही वे पहुँचे, त्योंही जहाज तट छोड़ चुका था। उस समय व्याकुल होकर मृणालिनी की आँखें किसी को खोज रही थीं। किन्तु अधिक खोज नहीं करनी पड़ी।

किशोर और मृणालिनी दोनों ने देखा कि गेरुए रंग का कपड़ा पहिने हुए एक व्यक्ति दोनों को हाथ जोड़े हुए जहाज पर खड़ा है, और जहाज शीघ्रता के साथ समुद्र के बीच में चला जा रहा है!

मृणालिनी ने देखा कि बीच में अगाध समुद्र है!


 

 






()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()




 


 

Hindi Kahani

हिंदी कहानी

Gulam Jaishankar Prasad

गुलाम जयशंकर प्रसाद



1

फूल नहीं खिलते हैं, बेले की कलियाँ मुरझाई जा रही हैं। समय में नीरद ने सींचा नहीं, किसी माली की भी दृष्टि उस ओर नहीं घूमी; अकाल में बिना खिले कुसुम-कोरक म्लान होना ही चाहता है। अकस्मात् डूबते सूर्य की पीली किरणों की आभा से चमकता हुआ एक बादल का टुकड़ा स्वर्ण-वर्षा कर गया। परोपकारी पवन उन छींटों को ढकेलकर उन्हें एक कोरक पर लाद गया। भला इतना भार वह कैसे सह सकता है! सब ढुलककर धरणी पर गिर पड़े। कोरक भी कुछ हरा हो गया।

यमुना के बीच धारा में एक छोटी, पर बहुत ही सुन्दर तरणी, मन्द पवन के सहारे धीरे-धीरे बह रही है। सामने के महल से अनेक चन्द्रमुख निकलकर उसे देख रहे हैं। चार कोमल सुन्दरियाँ डाँड़ें चला रही हैं, और एक बैठी हुई सितारी बजा रही है। सामने, एक भव्य पुरुष बैठा हुआ उसकी ओर निर्निमेष दृष्टि से देख रहा है।

पाठक! यह प्रसिद्ध शाहआलम दिल्ली के बादशाह हैं। जलक्रीड़ा हो रही है।

सान्ध्य-सूर्य की लालिमा जीनत-महल के अरुण मुख-मण्डल की शोभा और भी बढ़ा रही है। प्रणयी बादशाह उस आतप-मण्डित मुखारविन्द की ओर सतृष्ण नयन से देख रहे हैं, जिस पर बार-बार गर्व और लज्जा का दुबारा रंग चढ़ता-उतरता है, और इसी कारण सितार का स्वर भी बहुत शीघ्र चढ़ता-उतरता है। संगीत, तार पर चढक़र दौड़ता हुआ, व्याकुल होकर घूम रहा है; क्षण-भर भी विश्राम नहीं।

जीनत के मुखमण्डल पर स्वेद-बिन्दु झलकने लगे। बादशाह ने व्याकुल होकर कहा-बस करो, प्यारी जीनत! बस करो! बहुत अच्छा बजाया, वाह, क्या बात है! साकी, एक प्याला शीराजी शर्बत!

'हुजूर आया'-कहता हुआ एक सुकुमार बालक सामने आया, हाथ में पान-पात्र था। उस बालक की मुख-कान्ति दर्शनीय थी। भरा प्याला छलकना चाहता था, इधर घुँघराली अलकें उसकी आँखों पर बरजोरी एक पर्दा डालना चाहती थीं। बालक प्याले को एक हाथ में लेकर जब केश-गुच्छ को हटाने लगा, तब जीनत और शाहआलम दोनों चकित होकर देखने लगे। अलकें अलग हुईं। बेगम ने एक ठण्डी साँस ली। शाहआलम के मुख से भी एक आह निकलना ही चाहती थी, पर उसे रोककर निकल पड़ा-'बेगम को दो।'

बालक ने दोनों हाथों से पान-पात्र जीनत की ओर बढ़ाया। बेगम ने उसे लेकर पान कर लिया।

नहीं कह सकते कि उस शर्बत ने बेगम को कुछ तरी पहुँचाई या गर्मी; किन्तु हृदय-स्पन्दन अवश्य कुछ बढ़ गया। शाहआलम ने झुककर कहा-एक और!

बालक विचित्र गति से पीछे हटा और थोड़ी देर में दूसरा प्याला लेकर उपस्थित हुआ। पान-पात्र निश्शेष कर शाहआलम ने हाथ कुछ और फैला दिया, और बालक की ओर इंगित करके बोले-कादिर, जरा उँगलियाँ तो बुला दे।

बालक अदब से सामने बैठ गया और उनकी उँगलियों को हाथ में लेकर बुलाने लगा।

मालूम होता है कि जीनत को शर्बत ने कुछ ज्यादा गर्मी पहुँचाई। वह छोटे बजरे के मेहराब में से झुककर यमुना-जल छूने लगी। कलेजे के नीचे एक मखमली तकिया मसली जाने लगी, या न मालूम वही कामिनी के वक्षस्थल को पीडऩ करने लगी।

शाहआलम की उँगलियाँ, उस कोमल बाल-रवि-कर-समान स्पर्श से, कलियों की तरह चटकने लगीं। बालक की निर्निमेष दृष्टि आकाश की ओर थी। अकस्मात् बादशाह ने कहा-मीना! ख्वाजा-सरा से कह देना कि इस कादिर को अपनी खास तालीम में रखें, और उसके सुपुर्द कर देना।

एक डाँड़े चलाने वाली ने झुककर कहा-बहुत अच्छा हुजूर!

बेगम ने अपने सीने से तकिये को और दबा दिया; किन्तु वह कुछ न बोल सकी, दबकर रह गयी।


2

उपर्युक्त घटना को बहुत दिन बीत गये। गुलाम कादिर अब अच्छा युवक मालूम होने लगा। उसका उन्नत स्कन्ध, भरी-भरी बाँहें और विशाल वक्षस्थल बड़े सुहावने हो गये। किन्तु कौन कह सकता है कि वह युवक है। ईश्वरीय नियम के विरुद्ध उसका पुंसत्व छीन लिया गया है।

कादिर, शाहआलम का प्यारा गुलाम है। उसकी तूती बोल रही है, सो भी कहाँ? शाही नौबतखाने के भीतर।

दीवाने-आम में अच्छी सज-धज है। आज कोई बड़ा दरबार होने वाला है। सब पदाधिकारी अपने योग्यतानुसार वस्त्राभूषण से सजकर अपने-अपने स्थान को सुशोभित करने लगे। शाहआलम भी तख्त पर बैठ गये। तुला-दान होने के बाद बादशाह ने कुछ लोगों का मनसब बढ़ाया और कुछ को इनाम दिया। किसी को हर्बे दिये गये; किसी की पदवी बढ़ायी गयी; किसी की तनख्वाह बढ़ी।

किन्तु बादशाह यह सब करके भी तृप्त नहीं दिखाई पड़ते। उनकी निगाहें किसी को खोज रही हैं। वे इशारा कर रही हैं कि उन्हीं से काम निकल जाय, रसना को बोलना न पड़े; किन्तु करें क्या? वह हो नहीं सकता था। बादशाह ने एक तरफ देखकर कहा-गुलाम कादिर!

कादिर अपने कमरे में कपड़े पहनकर तैयार है, केवल कमरबंद में एक जड़ाऊ दस्ते की कटार लगाना बाकी है, जिसे बादशाह ने उसे प्रसन्न होकर दिया है। कटार लगाकर एक बड़े दर्पण में मुँह देखने की लालसा से वह उस ओर बढ़ा। दर्पण के सामने खड़े होकर उसने देखा, अपरूप सौन्दर्य! किसका? अपना ही। सचमुच कादिर की दृष्टि अपनी आँखों पर से नहीं हटती। मुग्ध होकर वह अपना रूप देख रहा है।

उसका पुरुषोचित सुन्दर मुख-मण्डल तारुण्य-सूर्य के आतप से आलोकित हो रहा है। दोनों भरे हुए कपोल प्रसन्नता से बार-बार लाल हो आते हैं, आँखें हँस रही हैं। सृष्टि सुन्दरतम होकर उसके सामने विकसित हो रही है।

प्रहरी ने आकर कहा-जहाँपनाह ने दरबार में याद किया है।

कादिर चौंक उठा और उसका रंग उतर गया। वह सोचने लगा कि उसका रूप और तारुण्य कुछ नहीं है, किसी काम का नहीं। मनुष्य की सारी सम्पत्ति उससे जबर्दस्ती छीन ली गयी है।

कादिर का जीवन भार हो उठा। निरभ्र, गगन में पावसघन घिर उठे। उसका प्राण तलमला उठा, और वह व्याकुल होकर चाहता था कि दर्पण फोड़ दे।

क्षण-भर में सारी प्रसन्नता मिट्टी में मिल गयी। जीवन दु:सह हो उठा। दाँत आपस में घिस उठे और कटार भी कमर से बाहर निकलने लगी।

कादिर कुछ शान्त हुआ। कुछ सोचकर धीरे-धीरे दरबार की ओर चला। बादशाह के सामने पहुँचकर यथोचित अभिवादन किया

शाहआलम-कादिर! इतनी देर तक कहाँ रहा?

कादिर-जहाँपनाह! गुलाम की खता माफ हो।

शाहआलम-(हँसते हुए) खता कैसी, कादिर?

कादिर-(जलकर) हुजूर, देर हुई।

शाहआलम-अच्छा, उसकी सजा दी जायगी।

कादिर-(अदब से) लेकिन हुजूर, मेरी भी कुछ अर्ज है।

बादशाह ने पूछा-क्या?

कादिर ने कहा-मुझे यही सजा मिले कि मैं कुछ दिनों के लिये देहली से निकाल दिया जाऊँ।

शाहआलम ने कहा-सो तो बहुत बड़ी सजा है कादिर, ऐसा नहीं हो सकता। मैं तुम्हें कुछ इनाम देना चाहता हूँ, ताकि वह यादगार रहे, और तुम फिर ऐसा कुसूर न करो।

कादिर ने हाथ बाँधकर कहा-हुजूर! इनाम में मुझे छुट्टी ही मिल जाय, ताकि कुछ दिनों तक मैं अपने बूढ़े बाप की खिदमत कर सकूँ।

शाहआलम-(चौंककर) उसकी खिदमत के लिये मेरी दी हुई जागीर काफी है। सहारनपुर में उसकी आराम से गुजरती है।

कादिर ने गिड़गिड़ाकर कहा-लेकिन जहाँपनाह, लडक़ा होकर मेरा भी कोई फर्ज है।

शाहआलम ने कुछ सोचकर कहा-अच्छा, तुम्हें रुख्सत मिली और यादगार की तरह तुम्हें एक-हजारी मनसब अता किया जाता है, ताकि तुम वहाँ से लौट आने में फिर देर न करो।

उपस्थित लोग 'करामात', हुजूर का एकबाल और बुलन्द हो' की धुन मचाने लगे। गुलाम कादिर अनिच्छा रहते उन लोगों का साथ देता था, और अपनी हार्दिक प्रसन्नता प्रकट करने की कोशिश करता था।


3

भारत के सपूत, हिन्दुओं के उज्जवल रत्न छत्रपति महाराज शिवाजी ने जो अध्यवसाय और परिश्रम किया, उसका परिणाम मराठों को अच्छा मिला, और उन्होंने भी जब तक उस पूर्व-नीति को अच्छी तरह से माना, लाभ उठाया। शाहआलम के दरबार में क्या-भारत में-आज मराठा-वीर सिन्धिया ही नायक समझा जाता है। सिन्धिया की विपुल वाहिनी के बल से शाहआलम नाममात्र को दिल्ली के सिंहासन पर बैठे हैं। बिना सिन्धिया के मंजूर किये बादशाह-सलामत रत्ती-भर हिल नहीं सकते। सिन्धिया दिल्ली और उसके बादशाह के प्रधान रक्षक हैं। शाहआलम का मुगल रक्त सर्द हो चुका है।

सिन्धिया आपस के झगड़े तय करने के लिये दक्खिन चला गया है। 'मंसूर' नामक कर्मचारी ही इस समय बादशाह का प्रधान सहायक है। शाहआलम का पूरा शुभचिन्तक होने पर भी वह हिन्दू सिन्धिया की प्रधानता से भीतर-भीतर जला करता था।

जला हुआ, विद्रोह का झंडा उठाये, इसी समय, गुलाम कादिर रुहेलों के साथ सहारनपुर से आकर दिल्ली के उस पार डेरा डाले पड़ा है। मंसूर उसके लिये हर तरह से तैयार है। एक बार वह भुलावे में आकर चला गया है। अबकी बार उसकी इच्छा है कि वजारत वही करे।

बूढ़े बादशाह संगमरमर के मीनाकारी किये हुए बुर्ज में गावतकिये के सहारे लेटे हुए हैं। मंसूर सामने हाथ बाँधे खड़ा है। शाहआलम ने भरी हुई आवाज में पूछा-क्यों मंसूर! क्या गुलाम कादिर सचमुच दिल्ली पर हमला करके तख्त छीनना चाहता है? क्या उसको इसीलिए हमने इस मरतबे पर पहुँचाया? क्या सबका आखिरी नतीजा यही है? बोलो, साफ कहो। रुको मत, जिसमें कि तुम बात बना सको।

मंसूर-जहाँपनाह! वह तो गुलाम है। फकत हुजूर की कदमबोसी हासिल करने के लिये आया है। और, उसकी तो यही अर्जी है कि हमारे आका शाहंशाहआलम-हिंद एक काफिर के हाथ की पुतली न बने रहें। अगर हुक्म दें, तो क्या यह गुलाम वह काम नहीं कर सकता?

शाहआलम-मंसूर! इसके माने?

मंसूर-बंद:परवर! वह दिल्ली की वजारत के लिये अर्ज करता है और गुलामी में हाजिर होना चाहता है। उसे तो सिन्धिया से रंज है, हुजूर तो उसके मेहरबान आका हैं।

शाहआलम-(जरा तनकर) हाँ मंसूर, उसे हमने बचपन से पाला है, और इस लायक बनाया।

मंसूर-(मन में) और उसे आपने ही, खुद-गरजी से-जो काबिले-नफरत थी-दुनिया के किसी काम का न रक्खा, जिसके लिये वह जी से जला हुआ है।

शाहआलम-बोलो मंसूर! चुप क्यों हो? क्या वह एहसान-फरामोश है?

मंसूर-हुजूर! फिर, गुलाम खिदमत में बुलाया जावे?

शाहआलम-वजारत देने में मुझे कोई उज्र नहीं है। वह सँभाल सकेगा?

मंसूर-हुजूर, अगर वह न सँभाल सकेगा, तो उसको वही झेलेगा। सिन्धिया खुद उससे समझ लेगा।

शाहआलम-हाँ जी, सिन्धिया से कह दिया जायगा कि लाचारी से उसको वजारत दी गयी। तुम थे नहीं, उसने जबर्दस्ती वह काम अपने हाथ में लिया।

मंसूर-और इससे मुसलमान रियाया भी हुजूर से खुश हो जायगी। तो, उसे हुक्म आने का भेज दिया जाय?


4

दिल्ली के दुर्ग पर गुलाम कादिर का पूर्ण अधिकार हो गया है। बादशाह के कर्मचारियों से सब काम छीन लिया गया है। रुहेलों का किले पर पहरा है। अत्याचारी गुलाम महलों की सब चीजों को लूट रहा है। बेचारी बेगमें अपमान के डर से पिशाच रुहेलों के हाथ, अपने हाथ से अपने आभूषण उतारकर दे रही हैं। पाशविक अत्याचार की मात्रा अब भी पूर्ण नहीं हुई। दीवाने-खास में सिंहासन पर बादशाह बैठे हैं। रुहेलों के साथ गुलाम कादिर उसे घेरकर खड़ा है।

शाहआलम-गुलाम कादिर, अब बस कर! मेरे हाल पर रहम कर, सब कुछ तूने कर लिया। अब मुझे क्यों नाहक परेशान करता है?

गुलाम-अच्छा इसी में है कि अपना छिपा खजाना बता दो।

एक रुहेला-हाँ,हाँ, हम लोगों के लिये भी तो कुछ चाहिये।

शाहआलम-कादिर! मेरे पास कुछ नहीं है। क्यों मुझे तकलीफ देता है?

कादिर-मालूम होता है, सीधी उँगली से घी नहीं निकलेगा।

शाहआलम-मैंने तुझे इस लायक इसलिये बनाया कि तू मेरी इस तरह बेइज्जती करे?

कादिर-तुम्हारे-ऐसों के लिये इतनी ही सजा काफी नहीं है। नहीं देखते हो कि मेरे दिल में बदले की आग जल रही है, मुझे तुमने किस काम का रक्खा? हाय!

मेरी सारी कार्रवाई फजूल है, मेरा सब तुमने लूट लिया है। बदला कहती है कि तुम्हारा गोश्त मैं अपने दाँतों से नोच डालूँ।

शाहआलम-बस कादिर! मैं अपनी खता कुबूल करता हूँ। उसे माफ कर! या तो अपने हाथों से मुझे कत्ल कर डाल! मगर इतनी बेइज्जती न कर!

गुलाम-अच्छा, वह तो किया ही जायेगा! मगर खजाना कहाँ है?

शाहआलम-कादिर! मेरे पास कुछ नहीं है!

गुलाम-अच्छा, तो उतर आएँ तख्त से, देर न करें!

शाहआलम-कादिर! मैं इसी पर बैठा हूँ, जिस पर बैठकर तुझे हुक्म दिया करता था। आ, इसी जगह खंजर से मेरा काम तमाम कर दे।

'वही होगा' कहता हुआ नर-पिशाच कादिर तख्त की ओर बढ़ा। बूढ़े बादशाह को तख्त से घसीटकर नीचे ले आया और उन्हें पटककर छाती पर चढ़ बैठा। खंजर की नोक कलेजे पर रखकर कहने लगा, अब भी अपना खजाना बताओ, तो जान सलामत बच जायगी।

शाहआलम गिड़गिड़ाकर कहने लगे कि ऐसी जिन्दगी की जरूरत नहीं है। अब तू अपना खञ्जर कलेजे के पार कर!

कादिर-लेकिन इससे क्या होगा! अगर तुम मर जाओगे, तो मेरे कलेजे की आग किसे झुलसायेगी; इससे बेहतर है कि मुझसे जैसी चीज छीन ली गयी है, उसी तरह की कोई चीज तुम्हारी भी ली जाय। हाँ, इन्हीं आँखों से मेरी खूबसूरती देखकर तुमने मुझे दुनिया के किसी काम का न रक्खा। लो, मैं तुम्हारी आँखें निकालता हूँ, जिससे मेरा कलेजा कुछ ठण्डा होगा।

इतना कह कादिर ने कटार से शाहआलम की दोनों आँखें निकाल लीं। रोशनी की जगह उन गड्ढों से रक्त के फुहारे निकलने लगे। निकली हुई आँखों को कादिर की आँखें प्रसन्नता से देखने लगीं।


 

 






()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()




 


 

Hindi Kahani

हिंदी कहानी

Ashok Jaishankar Prasad

अशोक जयशंकर प्रसाद



1

पूत-सलिला भागीरथी के तट पर चन्द्रालोक में महाराज चक्रवर्ती अशोक टहल रहे हैं। थोड़ी दूर पर एक युवक खड़ा है। सुधाकर की किरणों के साथ नेत्र-ताराओं को मिलाकर स्थिर दृष्टि से महाराज ने कहा-विजयकेतु, क्या यह बात सच है कि जैन लोगों ने हमारे बौद्ध-धर्माचार्य होने का जनसाधारण में प्रवाद फैलाकर उन्हें हमारे विरुद्ध उत्तेजित किया है और पौण्ड्रवर्धन में एक बुद्धमूर्ति तोड़ी गयी है?

विजयकेतु-महाराज, क्या आपसे भी कोई झूठ बोलने का साहस कर सकता है?

अशोक-मनुष्य के कल्याण के लिये हमने जितना उद्योग किया, क्या वह सब व्यर्थ हुआ? बौद्धधर्म को हमने क्यों प्रधानता दी? इसीलिये कि शान्ति फैलेगी, देश में द्वेष का नाम भी न रहेगा, और उसी शान्ति की छाया में समाज अपने वाणिज्य, शिल्प और विद्या की उन्नति करेगा। पर नहीं, हम देख रहे हैं कि हमारी कामना पूर्ण होने में अभी अनेक बाधाएँ हैं। हमें पहले उन्हें हटाकर मार्ग प्रशस्त करना चाहिये।

विजयकेतु-देव ! आपकी क्या आज्ञा है?

अशोक-विजयकेतु, भारत में एक समय वह था, जब कि इसी अशोक के नाम से लोग काँप उठते थे। क्यों? इसीलिये कि वह बड़ा कठोर शासक था। पर वही अशोक जब से बौद्ध कहकर सर्वत्र प्रसिद्ध हुआ है, उसके शासन को लोग कोमल कहकर भूलने लग गये हैं। अस्तु, तुमको चाहिये कि अशोक का आतंक एक बार फिर फैला दो; और यह आज्ञा प्रचारित कर दो कि जो मनुष्य जैनों का साथी होगा, वह अपराधी होगा; और जो एक जैन का सिर काट लावेगा, वह पुरस्कृत किया जावेगा।

विजयकेतु-(काँपकर) जो महाराज की आज्ञा!

अशोक-जाओ, शीघ्र जाओ।

विजयकेतु चला गया। महाराज अभी वहीं खड़े हैं। नूपुर का कलनाद सुनाई पड़ा। अशोक ने चौंककर देखा, तो बीस-पचीस दासियों के साथ महारानी तिष्यरक्षिता चली आ रही हैं।

अशोक-प्रिये! तुम यहाँ कैसे?

तिष्यरक्षिता-प्राणनाथ! शरीर से कहीं छाया अलग रह सकती है? बहुत देर हुई, मैंने सुना था कि आप आ रहे हैं; पर बैठे-बैठे जी घबड़ा गया कि आने में क्यों देर हो रही है। फिर दासी से ज्ञात हुआ कि आप महल के नीचे बहुत देर से टहल रहे हैं। इसीलिये मैं स्वयं आपके दर्शन के लिये चली आई। अब भीतर चलिये!

अशोक-मैं तो आ ही रहा था। अच्छा चलो।

अशोक और तिष्यरक्षिता समीप के सुन्दर प्रासाद की ओर बढ़े। दासियाँ पीछे थीं।


2

राजकीय कानन में अनेक प्रकार के वृक्ष, सुरभित सुमनों से भरे झूम रहे हैं। कोकिला भी कूक-कूक कर आम की डालों को हिलाये देती है। नव-वसंत का समागम है। मलयानिल इठलाता हुआ कुसुम-कलियों को ठुकराता जा रहा है।

इसी समय कानन-निकटस्थ शैल के झरने के पास बैठकर एक युवक जल-लहरियों की तरंग-भंगी देख रहा है। युवक बड़े सरल विलोकन से कृत्रिम जलप्रपात को देख रहा है। उसकी मनोहर लहरियाँ जो बहुत ही जल्दी-जल्दी लीन हो स्रोत में मिलकर सरल पथ का अनुकरण करती हैं, उसे बहुत ही भली मालूम हो रही हैं। पर युवक को यह नहीं मालूम कि उसकी सरल दृष्टि और सुन्दर अवयव से विवश होकर एक रमणी अपने परम पवित्र पद से च्युत होना चाहती है।

देखो, उस लता-कुंज में, पत्तियों की ओट में, दो नीलमणि के समान कृष्णतारा चमककर किसी अदृश्य आश्चर्य का पता बता रहे हैं। नहीं-नहीं, देखो, चन्द्रमा में भी कहीं तारे रहते हैं? वह तो किसी सुन्दरी के मुख-कमल का आभास है।

युवक अपने आनन्द में मग्न है। उसे इसका कुछ भी ध्यान नहीं है कि कोई व्याघ्र उसकी ओर अलक्षित होकर बाण चला रहा है। युवक उठा, और उसी कुंज की ओर चला। किसी प्रच्छन्न शक्ति की प्रेरणा से वह उसी लता-कुञ्ज की ओर बढ़ा। किन्तु उसकी दृष्टि वहाँ जब भीतर पड़ी, तो वह अवाक् हो गया। उसके दोनों हाथ आप जुट गये। उसका सिर स्वयं अवनत हो गया।

रमणी स्थिर होकर खड़ी थी। उसके हृदय में उद्वेग और शरीर में कम्प था। धीरे-धीरे उसके होंठ हिले और कुछ मधुर शब्द निकले। पर वे शब्द स्पष्ट होकर वायुमण्डल में लीन हो गये। युवक का सिर नीचे ही था। फिर युवती ने अपने को सम्भाला, और बोली-कुनाल, तुम यहाँ कैसे? अच्छे तो हो?

माताजी की कृपा से-उत्तर में कुनाल ने कहा।

युवती मन्द मुस्कान के साथ बोली-मैं तुम्हें देर से यहाँ छिप कर देख रही हूँ।

कुनाल-महारानी तिष्यरक्षिता को छिपकर मुझे देखने की क्या आवश्यकता है?

तिष्यरक्षिता-(कुछ कम्पित स्वर से) तुम्हारे सौन्दर्य से विवश होकर।

कुनाल-(विस्मित तथा भयभीत होकर) पुत्र का सौन्दर्य तो माता ही का दिया हुआ है।

तिष्यरक्षिता-नहीं कुनाल, मैं तुम्हारी प्रेम-भिखारिनी हूँ, राजरानी नहीं हूँ; और न तुम्हारी माता हूँ।

कुनाल-(कुंज से बाहर निकलकर) माताजी, मेरा प्रणाम ग्रहण कीजिए, और अपने इस पाप का शीघ्र प्रायश्चित कीजिये। जहाँ तक सम्भव होगा, अब आप इस पाप-मुख को कभी न देखेंगी।

इतना कहकर शीघ्रता से वह युवक राजकुमार कुनाल, अपनी विमाता की बात सोचता हुआ, उपवन के बाहर निकल गया। पर तिष्यरक्षिता किंकर्तव्यविमूढ़ होकर वहीं तब तक खड़ी रहीं, जब तक किसी दासी के भूषण-शब्द ने उसकी मोह-निद्रा को भंग नहीं किया।


3

श्रीनगर के समीपवर्ती कानन में एक कुटीर के द्वार पर कुनाल बैठा हुआ ध्यानमग्न है। उसकी सुशील पत्नी उसी कुटीर में कुछ भोजन बना रही है।

कुटीर स्वच्छ तथा उसकी भूमि परिष्कृत है। शान्ति की प्रबलता के कारण पवन भी उसी समय धीरे-धीरे चल रहा है।

किन्तु वह शान्ति देर तक न रही, क्योंकि एक दौड़ता हुआ मृगशावक कुनाल की गोद में आ गिरा, जिससे उसके ध्यान में विघ्न हुआ, और वह खड़ा हो गया। कुनाल ने उस मृगशावक को देखकर समझा कि कोई व्याघ्र भी इसके पीछे आता ही होगा। पर जब कोई उसे न देख पड़ा, तो उसने उस मृगशावक को अपनी स्त्री 'धर्मरक्षिता' को देकर कहा-प्रिये! क्या तुम इसको बच्चे की तरह पालोगी?

धर्मरक्षिता-प्राणनाथ, हमारे ऐसे वनचारियों को ऐसे ही बच्चे चाहिये।

कुनाल-प्रिये! तुमको हमारे साथ बहुत कष्ट है।

धर्मरक्षिता-नाथ, इस स्थान पर यदि सुख न मिला, तो मैं समझूँगी कि संसार में भी कहीं सुख नहीं है।

कुनाल-किन्तु प्रिये, क्या तुम्हें वे सब राज-सुख याद नहीं आते? क्या उनकी स्मृति तुम्हें नहीं सताती? और, क्या तुम अपनी मर्म-वेदना से निकलते हुए आँसुओं को रोक नहीं लेतीं! या वे सचमुच हैं ही नहीं?

धर्मरक्षिता-प्राणधार! कुछ नहीं है। यह सब आपका भ्रम है। मेरा हृदय जितना इस शान्त वन में आनन्दित है, उतना कहीं भी न रहा। भला ऐसे स्वभाववर्धित, सरल-सीधे और सुमनवाले साथी कहाँ मिलते? ऐसी मृदुला लताएँ, जो अनायास ही चरण को चूमती हैं, कहाँ उस जनरव से भरे राजकीय नगर में मिली थीं? नाथ, और सच कहना, (मृग को चूमकर) ऐसा प्यारा शिशु भी तुम्हें आज तक कहीं मिला था? तिस पर भी आपको अपनी विमाता की कृपा से जो दु:ख मिलता था, वह भी यहाँ नहीं है। फिर ऐसा सुखमय जीवन और कौन होगा?

कुनाल के नेत्र आँसुओं से भर आये, और वह उठकर टहलने लगे। धर्मरक्षिता भी अपने कार्य में लगी। मधुर पवन भी उस भूमि में उसी प्रकार चलने लगा। कुनाल का हृदय अशान्त हो उठा, और वह टहलता हुआ कुछ दूर निकल गया। जब नगर का समीपवर्ती प्रान्त उसे दिखाई पड़ा, तब वह रुक गया और उसी ओर देखने लगा।


4

पाँच-छ: मनुष्य दौड़ते हुए चले आ रहे हैं। वे कुनाल के पास पहुँचना ही चाहते थे कि उनके पीछे बीस अश्वारोही देख पड़े। वे सब-के-सब कुनाल के समीप पहुँचे। कुनाल चकित दृष्टि से उन सबको देख रहा था।

आगे दौड़कर आनेवालों ने कहा-महाराज, हम लोगों को बचाइये।

कुनाल उन लोगों को पीछे करके आप आगे डटकर खड़ा हो गया। वे अश्वारोही भी उस युवक कुनाल के अपूर्व तेजोमय स्वरूप को देखकर सहमकर, उसी स्थान पर खड़े हो गये। कुनाल ने उन अश्वारोहियों से पूछा-तुम लोग इन्हें क्यों सता रहे हो? क्या इन लोगों ने कोई ऐसा कार्य किया है, जिससे ये लोग न्यायत: दण्डभागी समझे गये हैं?

एक अश्वारोही, जो उन लोगों का नायक था, बोला-हम लोग राजकीय सैनिक हैं, और राजा की आज्ञा से इन विधर्मी जैनियों का बध करने के लिये आये हैं। पर आप कौन हैं, जो महाराज चक्रवत्र्ती देवप्रिय अशोकदेव की आज्ञा का विरोध करने पर उद्यत हैं?

कुनाल-चक्रवर्ती अशोक! वह कितना बड़ा राजा है?

नायक-मूर्ख! क्या तू अभी तक महाराज अशोक का पराक्रम नहीं जानता, जिन्होंने अपने प्रचण्ड भुजदण्ड के बल से कलिंग-विजय किया है? और, जिनकी राज्य-सीमा दक्षिण में केरल और मलयगिरि, उत्तर में सिन्धुकोश-पर्वत, तथा पूर्व और पश्चिम में किरात-देश और पटल हैं! जिनकी मैत्री के लिये यवन-नृपति लोग उद्योग करते रहते हैं, उन महाराज को तू भलीभाँति नहीं जानता?

कुनाल-परन्तु इससे भी बड़ा कोई साम्राज्य है, जिसके लिये किसी राज्य की मैत्री की आवश्यकता नहीं है।

नायक-इस विवाद की आवश्यकता नहीं है, हम अपना काम करेंगे।

कुनाल-तो क्या तुम लोग इन अनाथ जीवों पर कुछ दया न करोगे?

इतना कहते-कहते राजकुमार को कुछ क्रोध आ गया, नेत्र लाल हो गये। नायक उस तेजस्वी मूर्ति को देखकर एक बार फिर सहम गया।

कुनाल ने कहा-अच्छा, यदि तुम न मानोगे, तो यहाँ के शासक से जाकर कहो कि राजकुमार कुनाल तुम्हें बुला रहे हैं।

नायक सिर झुकाकर कुछ सोचने लगा। तब उसने अपने एक साथी की ओर देखकर कहा-जाओ, इन बातों को कहकर, दूसरी आज्ञा लेकर जल्द आओ।

अश्वारोही शीघ्रता से नगर की ओर चला। शेष सब लोग उसी स्थान पर खड़े थे।

थोड़ी देर में उसी ओर से दो अश्वारोही आते हुए दिखाई पड़े। एक तो वही था,जो भेजा गया था, और दूसरा उस प्रदेश का शासक था। समीप आते ही वह घोड़े पर से उतर पड़ा और कुनाल का अभिवादन करने के लिए बढ़ा। पर कुनाल ने रोक कर कहा-बस, हो चुका, मैंने आपको इसलिये कष्ट दिया है कि इन निरीह मनुष्यों की हिंसा की जा रही है।

शासक-राजकुमार! आपके पिता की आज्ञा ही ऐसी है, और आपका यह वेश क्या है?

कुनाल-इसके पूछने की कोई आवश्यकता नहीं, पर क्या तुम इन लोगों को मेरे कहने से छोड़ सकते हो?

शासक-(दु:खित होकर) राजकुमार, आपकी आज्ञा हम कैसे टाल सकते हैं, (ठहरकर) पर एक और बड़े दु:ख की बात है।

कुनाल-वह क्या?

शासक ने एक पत्र अपने पास से निकालकर कुनाल को दिखलाया। कुनाल उसे पढक़र चुप रहा, और थोड़ी देर के बाद बोला-तो तुमको इस आज्ञा का पालन अवश्य करना चाहिये।

शासक-पर, यह कैसे हो सकता है?

कुनाल-जैसे हो, वह तो तुम्हें करना ही होगा।

शासक-किन्तु राजकुमार, आपके इस देव-शरीर के दो नेत्र-रत्न निकालने का बल मेरे हाथों में नहीं है। हाँ, मैं अपने इस पद का त्याग कर सकता हूँ।

कुनाल-अच्छा, तो तुम मुझे इन लोगों के साथ महाराज के समीप भेज दो।

शासक ने कहा-जैसी आज्ञा।


5

पौण्ड्रवर्धन नगर में हाहाकार मचा हुआ है। नगर-निवासी प्राय: उद्विग्न हो रहे हैं। पर विशेषकर जैन लोगों ही में खलबली मची हुई है। जैन-रमणियाँ, जिन्होंने कभी घर के बाहर पैर भी नहीं रक्खा था, छोटे शिशुओं को लिये हुए भाग रही हैं। पर जायँ कहाँ? जिधर देखती हैं, उधर ही सशस्त्र उन्मत्त काल बौद्ध लोग उन्मत्तों की तरह दिखाई पड़ते हैं। देखो, वह स्त्री, जिसके केश परिश्रम से खुल गये हैं-गोद का शिशु अलग मचल कर रो रहा है, थककर एक वृक्ष के नीचे बैठ गयी है; अरे देखो! दुष्ट निर्दय वहाँ भी पहुँच गये, और उस स्त्री को सताने लगे।

युवती ने हाथ जोड़कर कहा-आप लोग दु:ख मत दीजिये। फिर उसने एक-एक करके अपने सब आभूषण उतार दिये और वे दुष्ट उन सब अलंकारों को लेकर भाग गये। इधर वह स्त्री निद्रा से क्लान्त होकर उसी वृक्ष के नीचे सो गयी।

उधर देखिये, वह एक रथ चला जा रहा है, और उसके पर्दे हटाकर बता रहे हैं कि उसमें स्त्री और पुरुष तीन-चार बैठे हैं। पर सारथी उस ऊँची-नीची पथरीली भूमि में भी उन लोगों की ओर बिना ध्यान दिये रथ शीघ्रता से लिये जा रहा है। सूर्य की किरणें पश्चिम में पीली हो गयी हैं। चारों ओर उस पथ में शान्ति है। केवल उसी रथ का शब्द सुनाई पड़ता है, जो अभी उत्तर की ओर चला जा रहा है।

थोड़ी ही देर में वह रथ सरोवर के समीप पहुँचा और रथ के घोड़े हाँफते हुए थककर खड़े हो गये। अब सारथी भी कुछ न कर सका और उसको रथ के नीचे उतरना पड़ा।

रथ को रुका जानकर भीतर से एक पुरुष निकला और उसने सारथी से पूछा-क्यों, तुमने रथ क्यों रोक दिया?

सारथी-अब घोड़े नहीं चल सकते।

पुरुष-तब तो फिर बड़ी विपत्ति का सामना करना होगा; क्योंकि पीछा करने वाले उन्मत्त सैनिक आ ही पहुँचेंगे।

सारथी-तब क्या किया जाय? (सोचकर) अच्छा, आप लोग इस समीप की कुटी में चलिये, यहाँ कोई महात्मा हैं, वह अवश्य आप लोगों को आश्रय देंगे।

पुरुष ने कुछ सोचकर सब आरोहियों को रथ पर से उतारा, और वे सब लोग उसी कुटी की ओर अग्रसर हुए।

कुटी के बाहर एक पत्थर पर अधेड़ मनुष्य बैठा हुआ है। उसका परिधेय वस्त्र भिक्षुओं के समान है। रथ पर के लोग उसी के सामने जाकर खड़े हुए। उन्हें देखकर वह महात्मा बोले-आप लोग कौन हैं और क्यों आये हैं?

उसी पुरुष ने आगे बढक़र, हाथ जोड़कर कहा-महात्मन्-हम लोग जैन हैं और महाराज अशोक की आज्ञा से जैन लोगों का सर्वनाश किया जा रहा है। अत: हम लोग प्राण के भय से भाग कर अन्यत्र जा रहे हैं। पर मार्ग में घोड़े थक गये, अब ये इस समय चल नहीं सकते। क्या आप थोड़ी देर तक हम लोगों को आश्रय दीजियेगा?

महात्मा थोड़ी देर सोचकर बोले-अच्छा, आप लोग इसी कुटी में चले जाइये।

स्त्री-पुरुषों ने आश्रय पाया।

अभी उन लोगों को बैठे थोड़ी ही देर हुई है कि अकस्मात् अश्व-पद-शब्द ने सबको चकित और भयभीत कर दिया। देखते-देखते दस अश्वारोही उस कुटी के सामने पहुँच गये। उनमें से एक महात्मा की ओर लक्ष्य करके बोला-ओ भिक्षु, क्या तूने अपने यहाँ भागे हुए जैन विधर्मियों को आश्रय दिया है? समझ रख, तू हम लोगों से बहाना नहीं कर सकता, क्योंकि उनका रथ इस बात का ठीक पता दे रहा है।

महात्मा-सैनिकों, तुम उन्हें लेकर क्या करोगे? मैंने अवश्य उन दुखियों को आश्रय दिया है। क्यों व्यर्थ नर-रक्त से अपने हाथों को रंजित करते हो?

सैनिक अपने साथियों की ओर देखकर बोला-यह दुष्ट भी जैन ही है, ऊपरी बौद्ध बना हुआ है; इसे भी मारो।

'इसे भी मारो' का शब्द गूँज उठा, और देखते-देखते उस महात्मा का सिर भूमि में लोटने लगा।

इस काण्ड को देखते ही कुटी के स्त्री-पुरुष चिल्ला उठे। उन नर-पिशाचों ने एक को भी न छोड़ा! सबकी हत्या की।

अब सब सैनिक धन खोजने लगे। मृत स्त्री-पुरुषों के आभूषण उतारे जाने लगे। एक सैनिक, जो उस महात्मा की ओर झुका था, चिल्ला उठा। सबका ध्यान उसी ओर आकर्षित हुआ। सब सैनिकों ने देखा, उसके हाथ में एक अँगूठी है, जिस पर लिखा है, 'वीताशोक'!


6

महाराज अशोक के भाई, जिनका पता नहीं लगता था, वही 'वीताशोक' मारे गये! चारों ओर उपद्रव शान्त है। पौण्ड्रवर्धन नगर प्रशान्त समुद्र की तरह हो गया है।

महाराज अशोक पाटलिपुत्र के साम्राज्य-सिंहासन पर विचारपति होकर बैठे हैं। राजसभा की शोभा तो कहते नहीं बनती। सुवर्ण-रचित बेल-बूटों की कारीगरी से, जिनमें मणि-माणिक्य स्थानानुकूल बिठाये गये हैं। मौर्य-सिंहासन-मडन्दर भारतवर्ष का वैभव दिखा रहा है, जिसे देखकर पारसीक सम्राट 'दारा' के सिंहासन-मन्दिर को ग्रीक लोग तुच्छ दृष्टि से देखते थे।

धर्माधिकारी, प्राड्विवाक, महामात्य, धर्म-महामात्य रज्जुक, और सेनापति, सब अपने-अपने स्थान पर स्थित हैं। राजकीय तेज का सन्नाटा सबको मौन किये है।

देखते-देखते एक स्त्री और एक पुरुष उस सभा में आये। सभास्थित सब लोगों की दृष्टि को पुरुष के अवनत तथा बड़े-बड़े नेत्रों ने आकर्षित कर लिया। किन्तु सब नीरव हैं। युवक और युवती ने मस्तक झुकाकर महाराजा को अभिवादन किया।

स्वयं महाराजा ने पूछा-तुम्हारा नाम?

उत्तर-कुनाल।

प्रश्न-पिता का नाम।

उत्तर-महाराज चक्रवर्ती धर्माशोक।

सब लोग उत्कण्ठा और विस्मय से देखने लगे कि अब क्या होता है, पर महाराज का मुख कुछ भी विकृत न हुआ, प्रत्युत और भी गम्भीर स्वर से प्रश्न करने लगे।

प्रश्न-तुमने कोई अपराध किया है?

उत्तर-अपनी समझ से तो मैंने अपराध से बचने का उद्योग किया था।

प्रश्न-फिर तुम किस तरह अपराधी बनाये गये?

उत्तर-तक्षशिला के महासामन्त से पूछिये।

महाराज की आज्ञा होते ही शासक ने अभिवादन के उपरान्त एक पत्र उपस्थित किया, जो अशोक के कर में पहुँचा।

महाराज ने क्षण-भर में महामात्य से फिरकर पूछा-यह आज्ञा-पत्र कौन ले गया था, उसे बुलाया जाय।

पत्रवाहक भी आया और कम्पित स्वर से अभिवादन करते हुए बोला-धर्मावतार, यह पत्र मुझे महादेवी तिष्यरक्षिता के महल से मिला था, और आज्ञा हुई थी कि इसे शीघ्र तक्षशिला के शासक के पास पहुँचाओ।

महाराज ने शासक की ओर देखा। उसने हाथ जोड़कर कहा-महाराज, यही आज्ञा-पत्र लेकर गया था।

महाराज ने गम्भीर होकर अमात्य से कहा-तिष्यरक्षिता को बुलाओ।

महामात्य ने कुछ बोलने की चेष्टा की, किन्तु महाराज के भृकुटिभंग ने उन्हें बोलने से निरस्त किया; अब वह स्वयं उठे और चले।


7

महादेवी तिष्यरक्षिता राजसभा में उपस्थित हुईं। अशोक ने गम्भीर स्वर से पूछा-यह तुम्हारी लेखनी से लिखा गया है? क्या उस दिन तुमने इसी कुकर्म के लिये राजमुद्रा छिपा ली थी? क्या कुनाल के बड़े-बड़े सुन्दर नेत्रों ने ही तुम्हें आँखें निकलवाने की आज्ञा देने के लिये विवश किया था? अवश्य तुम्हारा ही यह कुकर्म है। अस्तु, तुम्हारी-ऐसी स्त्री को पृथ्वी के ऊपर नहीं, किन्तु भीतर रहना चाहिये।

सब लोग काँप उठे। कुनाल ने आगे बढ़ घुटने टेक दिये और कहा-क्षमा।

अशोक ने गम्भीर स्वर से कहा-नहीं।

तिष्यरक्षिता उन्हीं पुरुषों के साथ गयी, जो लोग उसे जीवित समाधि देनेवाले थे। महामात्य ने राजकुमार कुनाल को आसन पर बैठाया और धर्मरक्षिता महल में गयी।

महामात्य ने एक पत्र और अँगूठी महाराज को दी। यह पौण्ड्रवर्धन के शासक का पत्र तथा वीताशोक की अँगूठी थी।

पत्र-पाठ करके और मुद्रा को देखकर वही कठोर अशोक विह्वल हो गये, ओर अवसन्न होकर सिंहासन पर गिर पड़े।

उसी दिन से कठोर अशोक ने हत्या की आज्ञा बन्द कर दी, स्थान-स्थान पर जीवहिंसा न करने की आज्ञा पत्थरों पर खुदवा दी गयी।

कुछ ही काल के बाद महाराज अशोक ने उद्विग्न चित्त को शान्त करने के लिये भगवान बुद्ध के प्रसिद्ध स्थानों को देखने के लिए धर्म-यात्रा की।


 

 






()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()()





 


 

Hindi Kahani

हिंदी कहानी

Chittaur Uddhaar Jaishankar Prasad

चित्तौर-उद्धार जयशंकर प्रसाद



1

दीपमालाएँ आपस में कुछ हिल-हिलकर इंगित कर रही हैं, किन्तु मौन हैं। सज्जित मन्दिर में लगे हुए चित्र एकटक एक-दूसरे को देख रहे हैं, शब्द नहीं हैं। शीतल समीर आता है, किन्तु धीरे-से वातायन-पथ के पार हो जाता है, दो सजीव चित्रों को देखकर वह कुछ नहीं कह सकता है। पर्यंक पर भाग्यशाली मस्तक उन्नत किये हुए चुपचाप बैठा हुआ युवक, स्वर्ण-पुत्तली की ओर देख रहा है, जो कोने में निर्वात दीपशिखा की तरह प्रकोष्ठ को आलोकित किये हुए है। नीरवता का सुन्दर दृश्य, भाव-विभोर होने का प्रत्यक्ष प्रमाण, स्पष्ट उस गृह में आलोकित हो रहा है।

अकस्मात् गम्भीर कण्ठ से युवक उद्वेग में भर बोल उठा-सुन्दरी! आज से तुम मेरी धर्म-पत्नी हो, फिर मुझसे संकोच क्यों?