Search Any topic , section , query

Thursday, 28 November 2019

पशु आहार का व्यापार Domestic Animal Food ( Business)

पशु आहार का व्यापार

Domestic Animal Food ( Business)

पशु आहार कई प्रकार के होते है

जैसे - फीड (feed)

यह आहार कुछ Animals के लिए ही होता है न की कुत्तों, सुअर आदि के लिए जो जानवर दूध देते है लोग उन्ही को ये वाला आहार देते है इससे दूध और दूध का फैट , एस एन एफ सारा बढ़ता है ये आहार आपको होलसेल में 50 kg ₹ 840 - ₹ 850 तक में मिल जाएगा जिसे आप ₹ 900 तक सेल कर सकते है
इसमें और भी बहुत सी क्वालिटी आती है जो ₹ 1000 से लेके ₹ 1200 तक की होती है जो गारंटी के साथ जानवर का दूध बढ़ा देती है

जैसे - हाई पावर , मिल्क बूस्टर इत्यादि


Number 2 पे आता है पॉलिश जो कि धान से निकलती है ise bhi लोग जानवर को खिलाना पसंद करते है

यह पॉलिश आप को ₹ 1600 कुंतल तक मिल जाएंगी इसे खिलाने से जानवर में चिकनाहट बनी रहती है aur ज्यादर इसे भैंस को ही खिलाई जाती है क्युकी यह ठंडी होती है।



नंबर 3 पे आता है चोकर

यह गेहूं के छिलन से बनता है इसे भी जानवर बहुत अच्छे से खाते है क्युकी इसे जब जानवर के चारे में मिलाया जाता है तब यह बहुत ज्यादा मात्रा में चारे में दिखने लगता है इसे भी किसान दूध देने वाले जानवरों को बहुत अच्छे से खिलाते है


नंबर 4 पे आता है चावल की कनकी

चावल की खंडी का यूज मुख्य रूप से आहार का मिक्सर बनाने में किया जाता है और इसे अगर चक्की से पीस दिया जाता है तो यह भैंस और गाय के खाने योग्य बन जाता है लेकिन इसे लोग बहुत कम खिलाते है खासकर जो जानवर दूध देते है उन्हें बहुत कम खिलाया जाता है क्युकी इसे खिलाने से फैट और एसएनएफ काफी कम हो जाता है
खंडी आपको चावल वाले मील से मिलेंगी इसका एमआरपी 1400 से 1500 ₹ प्रति कुंटल होता है

नंबर 5 पे आता है बूटा


बूटा को बनाने में 4 से 5 चिजो की जरूरत होती है
जैसे  चावल की पालिश , चावल की खंडी , कैल्सियम , और कुछ दाल का छीलन , इनका मिक्सर आपस में मिलाकर तेयार किया जाता है फिर इन्हें बोरी में पैक किया जाता है और मार्केट में भेजा जाता है बूटा बनाने में आपकी कॉस्ट 1500 से 1550 ₹ तक लग सकती है और जिसे आप मार्केट में ₹ 1700 से 1750 तक बेच सकते है

अगर आप को इन आहरो में कोई भी आहार लेना हो आप हमें msg करे


इसके अलावा और भी बहुत से पशु आहार आते है
जैसे मुर्गे का आहार , कुत्ते का आहार , सुवर का आहार ,

No comments:

Post a Comment